व्याकरण शास्त्रीय परिभाषाएँ : डॉ. पर्णदत्त सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Vyakaran Shastriya Paribhashaen : by Dr. Parndatt Singh Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Name व्याकरण शास्त्रीय परिभाषाएँ / Vyakaran Shastriya Paribhashaen
Author
Category, , , ,
Language
Pages 566
Quality Good
Size 234 MB
Download Status Available

व्याकरण शास्त्रीय परिभाषाएँ का संछिप्त विवरण : प्रस्तुत अन्थ की पूर्णता के लिए प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जिन-जिन विद्वानों का सहयोग ग्राप्त हुआ है, उनके प्रति मैं सदैव सहदय आभारी रहूँगा। इस ग्रन्थ से व्याकरणशाख्रीय विषयों के अध्येताओं को यदि थोड़ा भी लाभ हुआ तो मैं अपने परिश्रम को सार्थक समझूँगा। स्खलन मानव स्वभाव होता है। अतएव ग्रन्थ में त्रुटियाँ सम्भावित……….

Vyakaran Shastriya Paribhashaen PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Prastut anth ki poornata ke lie pratyaksh athava apratyaksh roop se jin-jin vidvanon ka sahayog grapt huya hai, unke prati main sadaiv sahaday aabhari rahunga. Is Granth se vyakaranashakhriy vishayon ke adhyetaon ko yadi thoda bhi labh huya to main apne parishram ko sarthak samajhoonga. Skhalan manav svabhav hota hai. Atev granth mein trutiyan sambhavit……….
Short Description of Vyakaran Shastriya Paribhashaen PDF Book : I will always be grateful to all the scholars whose cooperation has been received directly or indirectly for the completion of the present end. If the scholars of grammarian subjects get even a little benefit from this book, then I will consider my hard work worthwhile. Ejaculation is human nature. Therefore, errors are possible in the text……….
“मेरे विचार से जो व्यक्ति जिंदा रहने अर्थात पैसे के लिए किसी कार्य को करता है, वह स्वयं को गुलाम बना लेता है।” ‐ जोसेफ कैम्पबैल
“I think the person who takes a job in order to live that is to say, for the money has turned himself into a slave.” ‐ Joseph Campbell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment