तंत्र कौमुदी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र-मंत्र | Tantra Koumudi : Hindi PDF Book – Tantra-Mantra

Book Name तंत्र कौमुदी / Tantra Koumudi
Category,
Language
Pages 121
Quality Good
Size 65 MB
Download Status Available
चेतावनी यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : तंत्र और सौंदर्य एक दुसरे के साथ जुड़े हुए है | साथक जैसे साधना जगत में प्रवेश करते जाता है वैसे-वैसे उसे साधना जगत की गूढ़ता का भान भी होते जाता है | हाँ ये सत्य है कि तंत्र दर्शन नहीं है, अपितु एक विचार धारा है जो साधक को सतत क्रियाशील होने के लिए प्रेरित करता है | और जब इस विचारधारा से प्ररित होकर साधक क्रिया पद्धति का सहयोग लेता……..

Pustak Ka Vivaran : Tantr aur saundary ek dusre ke sath jude hue hai. Sadhak jaise sadhna jagat mein pravesh karte jata hai vaise-vaise use sadhna jagat ki gudhta ka bhan bhi hote jata hai. Haan ye saty hai ki tantr darshan nahin hai, apitu ek vichar dhara hai jo sadhak ko satat kriyashil hone ke lie prerit karta hai. Aur jab is vichardhara se prarit hokar sadhak kriya paddhati ka sahayog leta hai…………

Description about eBook : The system and beauty are connected with each other. As the seeker enters the world of meditation, even then he becomes aware of the mystery of the world of meditation. Yes it is true that the system is not visible, but there is a concept stream which inspires the seeker to be constantly active. And when inspired by this ideology, the seeker cooperates with the method of action…………..

“क्रोध एक तेज़ाब है जो जिस पर डाला जाता है उससे अधिक नुकसान उस पात्र को नुकसान पहुंचा सकता है जिसमें वह रखा होता है।” मार्क ट्वैन
“Anger is an acid that can do more harm to the vessel in which it is stored than to anything on which it is poured.” Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

1 thought on “तंत्र कौमुदी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र-मंत्र | Tantra Koumudi : Hindi PDF Book – Tantra-Mantra”

Leave a Comment