शव – यात्रा : स्वामी रामप्रकाशाचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Shav – Yatra : by Swami Ramprakashacharya Hindi PDF Book – Granth

Book Name शव - यात्रा / Shav - Yatra
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 50
Quality Good
Size 15.2 MB
Download Status Available

शव – यात्रा पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : भावार्थ- मृतक होने पर प्राणी को धन घर से ही त्याग देता है, बांधव शमशान तक पहुंचाते
हैं और अपने द्वारा किये गये शुभ – अशुभ ( पुण्य -पाप) कर्म साथ जाते हैं । शरीर तो अग्नि में भस्म हो जाता
है, कर्म ही जीवात्मा के साथ रहते हैं, पुण्यों पापों का फल मनुष्य सर्वत्र भोगता है……

Shav – Yatra PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Bhavarth- mrtak hone par prani ko dhan ghar se hee tyag deta hai, bandhav shamashan tak pahunchate hain aur apane dvara kiye gaye shubh – Ashubh ( puny -pap ) karm sath jate hain . Shareer to agni mein bhasm ho jata hai, karm hee jeevatma ke sath rahate hain, punyon papon ka phal manushy sarvatr bhogata hai…….

Short Description of Shav – Yatra Hindi PDF Book : On being dead, the creature renounces the wealth from the house, the Bandhav takes it to the crematorium, and the auspicious (inauspicious) sins are done with him. The body is consumed in fire, karma remains with the person, human beings bear the fruits of all sins…….

 

“अगर आप मुझसे पूछे कि दीर्घ आयु का क्या राज़ है, तो मैं कहूंगा कि चिंता और तनाव से बचें। और आप न भी पूछे तब भी मैं यह बताना चाहूंगा।” ‐ जॉर्ज बर्न्स
“If you ask what is the single most important key to longevity, I would have to say it is avoiding worry, stress and tension. And if you didn’t ask me, I’d still have to say it.” ‐ George Burns

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment