पन्त का काव्य और युग : यशदेव | Pant Ka Kavya Aur Yug by Yashdev Hindi PDF Book

Author
Category, , ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“जब आप कुछ गंवा बैठते हैं, तो उससे प्राप्त शिक्षा को न गंवाएं।” ‐ दलाई लामा
“When you lose, do not lose the lesson.” ‐ Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

पन्त का काव्य और युग : यशदेव द्वारा हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Pant Ka Kavya Aur Yug by Yashdev Hindi PDF Book

pant-ka-kavya-aur-yug-yashdev-पन्त-का-काव्य-और-युग-यशदेव

पुस्तक का नाम / Name of Book : पन्त का काव्य और युग / Pant Ka Kavya Aur Yug

पुस्तक के लेखक / Author of Book : Yashdev/ यशदेव

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 25.1 MB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 401

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पुस्तक का विवरण : जैसा कि पुस्तक के नाम से ही स्पष्ट है, इसमें पन्त-काव्य के साथ-साथ युग का भी अध्ययन विस्तार से किया गया है| वास्तव में मुझे युग के अध्ययन पर ही अधिक महत्व है| युग सम्बन्धी ये निबन्ध एक श्रंखला में है अतः इन्हें क्रम से पढना आवश्यक है…………..

अन्य अध्यात्मिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  “हिंदी अध्यात्मिक पुस्तक”

Description about eBook : As is evident from the name of the book, it has also been studied in detail with the poetic poetry along with epoch. In fact, I have more importance on the study of the era. These essays are in a series, so it is necessary to read them in sequence………………

To read other Spiritual books click here- “Hindi Spiritual Books”


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें



इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 

One Quotation / एक उद्धरण
“उस ज्ञान का कोई लाभ नहीं जिसे आप काम में नहीं लेते।”
– एंटन चेखोव


——————————–
“Knowledge is of no value unless you put it into practice.” 
– Anton Chekhov

Leave a Comment