हिन्दी चेतना (अप्रैल – जून 2014) : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Hindi Chetna (April – June 2014) : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

Book Name हिन्दी चेतना (अप्रैल – जून 2014) / Hindi Chetna (April – June 2014)
Author
Category, , , , , , , , , , , ,
Language
Pages 76
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सम्मान देना और सम्मान लेना एक गौरवशाली परम्परा है। इस परम्परा का निर्वाह करना तलवार की धार और काँटें की राह पर चलना है। स्वदेश में तो कई संस्थाएँ इस तरफ कार्यरत हैं। यूके में इंदुकथा सम्मान के अतिरिक्त विदशों में और कोई संस्था यह जोखिम नहीं उठा रही | जोखिम इसलिए कहूँगा, सम्मानों की निष्पक्ष कार्यप्रणाली स्थापित…

Pustak Ka Vivaran : Samman Dena aur Samman lena ek Gauravashali Parampara hai. Is Parampara ka Nirvah karna talvar ki dhar aur kanten ki Rah par chalana hai. Svadesh mein to kayi Sansthayen is taraph karyarat hain. UK mein Indukatha samman ke atirikt vidashon mein aur koi sanstha yah jokhim nahin utha rahi. Jokhim isliye kahoonga, Sammanon ki Nishpaksh karyapranali sthapit……..

Description about eBook : Giving respect and taking respect is a proud tradition. To carry out this tradition is to follow the edge of the sword and the path of thorns. In the country, many organizations are working in this direction. Apart from the Indukatha Samman in the UK, no other organization abroad is taking this risk. Risks I would say so, establish a fair system of honors………

“ईमानदारी किसी कायदे कानून की मोहताज़ नहीं होती।” ‐ आल्बेर कामू (१९१३-१९६०), १९५७ में साहित्य के नोबल पुरस्कार विजेता
“Integrity has no need of rules.” ‐ Albert Camus (1913-1960), 1957 Nobel for Literature

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment