ब्रज के लोकगीतों का यौन मनोविश्लेषण : डॉ. रामसिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Braj Ke Lokgeeton Ka Yaun Manovishleshan : by Dr. Ramsingh Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Name ब्रज के लोकगीतों का यौन मनोविश्लेषण / Braj Ke Lokgeeton Ka Yaun Manovishleshan
Category, , , , ,
Language
Pages 60
Quality Good
Size 1018 KB
Download Status Available

ब्रज के लोकगीतों का यौन मनोविश्लेषण का संछिप्त विवरण : धर्म और संस्कृति–जन-जीवन में धर्म का महत्त्वपूर्ण स्थान है फ्रायड के अनुसार अचेतमन में प्रच्छनन वासनाएँ चेतन के धरातल पर आती है, तब भय संकुल मानस में कल्पना धर्म की संचेतना में जगती है। धर्म का आधार प्रेम न होकर भय, घृणा और विनाश की मूल प्रवृत्तियाँ हैं। मनुष्य अपने अपराध और पाप के प्रक्षालन के लिए धर्म का सहारा लेता है। शुभकर्मों की ओर संप्रेरित होकर सुख और समृद्धि की कामना करता है। जैसा कि जैमिनी सूत्र में आया है…….

Braj Ke Lokgeeton Ka Yaun Manovishleshan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dharm aur Sanskrti Jan-Jeevan mein dharm ka Mahattvapurn sthan hai Freud ke anusar achetaman mein prachchhanan vasanayen chetan ke dharatal par aati hai, tab bhay sankul manas mein kalpana dharm ki sanchetana mein jagati hai. Dharm ka aadhar prem na hokar bhay, ghrna aur vinash ki mool pravrttiyan hain. Manushy apne apradh aur pap ke prakshalan ke liye dharm ka sahara leta hai. Shubhakarmon ki or samprerit hokar sukh aur samrddhi ki kamana karta hai. Jaisa ki Jaimini sootra mein aaya hai…….
Short Description of Braj Ke Lokgeeton Ka Yaun Manovishleshan PDF Book : Religion and Culture – Religion has an important place in the life of the people, according to Freud, the disguised desires in the unconscious come on the surface of the conscious, then in the mind packed with fear, imagination arises in the consciousness of religion. The basis of religion is not love but the basic tendencies of fear, hatred and destruction. Man takes the help of religion to wash off his guilt and sin. Inspired towards good deeds, wishes for happiness and prosperity. As stated in Jaimini Sutra…..
“असीमित चिंता भी क्यों न कर लें, लेकिन चिंता से तो एक छोटी सी भी समस्या का हल नहीं होगा।” ‐ जार्ज हर्बर्ट
“A hundredload of worry will not pay an ounce of debt.” ‐ George Herbert

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment