युग परिवर्तन इस्लामी दृष्टिकोण : सैय्यद अब्दुल्लाह तारिक द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Yug Parivartan Islami Drashtikon : by Syed Abdullah Tariq Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Name युग परिवर्तन इस्लामी दृष्टिकोण / Yug Parivartan Islami Drashtikon
Author
Category, , , , , , , ,
Pages 14
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण :ईमान या आस्था सरल शब्दों में ;मामने’ अर्थात हृदय से स्वीकार करने या पूर्ण विश्वास रखने को कहते है। मानने की न कोई भाषा होती है ओर वह नजर आने वाली वास्तु है। किसी ने कुछ माना या स्वीकार किया या नहीं, यह कर्म से विदित है होता है। यदि कोई अंदर आकर यह सुचना दे कि बाहर गोली चल रही है तो इस सुचना पर………

Pustak Ka Vivaran : Iman ya Astha Saral shabdon mein ; Mamane Arthat Hrday se sveekar karane ya poorn vishvas rakhane ko kahate hai. Manane kee na koi bhasha hoti hai aur vah Najar aane vali vastu hai. Kisi ne kuchh mana ya sveekar kiya ya nahin, yah karm se vidit hai hota hai. yadi koi andar Akar yah suchana de ki bahar goli chal rahee hai to is suchana par…………

Description about eBook : Faith or faith is called, in simple words, ‘mother’, that is to accept from the heart or have full faith. There is no language to believe and it is visible Vastu. Whether someone believed or accepted something, it is known by karma. If someone comes in and informs that a bullet is going on outside, then on this information………..

“एक बार काम शुरू कर लें तो असफलता का डर नहीं रखें और न ही काम को छोड़ें। निष्ठा से काम करने वाले ही सबसे सुखी हैं।” ‐ चाणक्य
“Once you start a working on something, don’t be afraid of failure and don’t abandon it. People who work sincerely are the happiest.” ‐ Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment