श्रीमद्भगवद्गीता भाग 2 : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Shrimad Bhagwat Geeta Part 2 : Hindi PDF Book – Granth

Book Name श्रीमद्भगवद्गीता भाग 2 / Shrimad Bhagwat Geeta Part 2
Author
Category, , , , , ,
Pages 550
Quality Good
Size 27.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यहाँ उक्त दृधचन्त और दाष्टन्तिक का अभिप्राय यह है कि दर्पण में प्रतिबिम्बित मुख की तिलक आदि से शोभा करने की यदि अपेक्षा-आवश्यकता होती है तो वह शोभा बिम्बभूत मुख में ही समर्पित होती है, प्रतिबिम्बि में नहीं, वह तो बिम्ब से ही प्रतिबिम्ब में स्वयं ही प्रतिफलित होती है, उसकी प्राप्ति में अन्य कोई उपाय नहीं है जैसे वैसे ही बिम्बभूत ईश्वर में समर्पित ही वस्तु………

Pustak Ka Vivaran : Yahan ukt Dridhachant aur dashtantik ka abhipray yah hai ki darpan mein pratibimbit mukh ki tilak aadi se shobha karne ki yadi apeksha-aavashyakata hoti hai to vah shobha bimbabhoot mukh mein hi samarpit hoti hai, pratibimbi mein nahin, vah to bimb se hi pratibimb mein svayan hi pratiphalit hoti hai, uski prapti mein any koi upay nahin hai jaise vaise hi bimbabhoot Ishvar mein samarpit hi vastu………

Description about eBook : Here the meaning of the said Drishchant and Dashantik is that if there is a need-need to beautify the face reflected in the mirror with a tilak etc., then that splendor is devoted to the face itself, not to the reflection, it is from the object itself in the reflection itself. It is the result, there is no other way to achieve it, just as the object devoted to the reflected God………

“भविष्य उनका है जो अपने सपनों की सुंदरता में यकीन करते हैं।” ‐ एलेअनोर रूज़वेल्ट
“The future belongs to those who believe in the beauty of their dreams.” ‐ Eleanor Roosevelt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment