श्रीविष्णु सहस्त्रनाम : शंकराचार्य द्वारा मुफ्त हिंदी धार्मिक पीडीएफ पुस्तक | Shri Vishnu Sahastranama : by Shankarachrya Free Hindi Religious PDF Book

Author
Category,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“मैं अपने मित्र में अपना दूसरा व्यक्तित्व देखता हूं।” ‐ इसाबेल नार्टन
“In my friend, I find a second self.” ‐ Isabel Norton

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

श्रीविष्णु सहस्त्रनाम : शंकराचार्य द्वारा मुफ्त हिंदी धार्मिक पीडीएफ पुस्तक | Shri Vishnu Sahastranama : by Shankarachrya Free Hindi Religious PDF Book 

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )
Shri-Vishnu-Sahastranama-Shankarachrya-श्रीविष्णु-सहस्त्रनाम-शंकराचार्य

पुस्तक का नाम / Name of Book : श्री विष्णु सहस्त्रनाम / Shri Vishnu Sahastranama

पुस्तक के लेखक / Author of Book : शंकराचार्य / Shankarachrya

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 8 MB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 289

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पुस्तक का विवरण : महाभारत में भगवान के  अनन्य भक्त पितामह भीष्म द्वारा भगवान के जिन परम पवित्र सहस्त्र नामों का उपदेश किया गया, उसी को श्री विष्णु सहस्त्रनाम कहते हैं| भगवान के नामों की महिमा अनंत है| हीरा, लाल, पन्ना सभी बहुमूल्य रत्न हैं, पर यदि वे किसी निपुण जडिये के द्वारा सम्राट के किरीट में यथास्थान जड़ दिए जाएँ तो उनकी शोभा बहुत बढ़ जाती है और अलग-अलग एक-एक दाने की अपेक्षा उस जड़े हुए किरीट का मूल्य भी बहुत बढ़ जाता है| यध्यपि भगवान के नाम के साथ किसी उदाहरण की समता नहीं हो सकती, तथापि समझने के लिये इस उदाहरण के अनुसार भगवान के एक सहस्त्र नामों को शास्त्र की रीति में यथास्थान आगे-पीछे जो जहाँ आना चाहिये था- वहीँ जड़कर भीष्म-सद्रश निपुण जडिये ने यह एक परम सुन्दर, परम आनंदप्रद अमूल्य वस्तु तैयार कर दी है………….

स्वामी शंकराचार्य की पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  “स्वामी शंकराचार्य”

Description about eBook : In the Mahabharata, Bhishma the grandsire ardent devotee of God by the Holy Thousand Names of God was preached, for he says Vishnu Shstrnam. Names of God is infinite glory | Diamond, red, emerald, all precious stones, but they accomplished Jweller a visit by the Emperor Kirit root in situ, their beauty is greatly increased and grain than one individual value of the studded Kirit is higher However an example parity with the name of God can not be God, according to this example, however, to understand the manner of a thousand names written, which should come in the back and forth was the place While hitting the Bhishma-Sdras Jdiye accomplished a most beautiful, precious thing has come up with the ultimate comical………………..

To read Swami Shankaracharya books click here- Swami Shankaracharya”


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें



इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 







श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 

One Quotation / एक उद्धरण
“जो गिना जा सकता है आवश्यक नहीं कि उसकी गिनती हो, और आवश्यक नहीं कि जिसकी गिनती हो उसे गिना जा सकता हो।”
– अल्बर्ट आइन्सटीन


——————————–
“Not everything that can be counted counts, and not everything that counts can be counted.” 
– Albert Einstein

Leave a Comment