श्री नवग्रह चालीसा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Shri Navagraha Chalisa Free Hindi PDF Book

Category, ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“आप आराम की ज़िंदगी चाहते हैं तो आपको कुछ परेशानी तो उठानी ही होगी।” एबिगैल वैन ब्यूरेन
“If you want a place in the sun, you’ve got to put up with a few blisters.” Abigail Van Buren

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

श्री नवग्रह चालीसा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Shri Navagraha Chalisa Free Hindi PDF Book

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )

shri-navagraha-chalisa-श्री-नवग्रह-चालीसा

पुस्तक का नाम / Name of Book : श्री नवग्रह चालीसा / Shri Navagraha Chalisa

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 200 KB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 3

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पुस्तक का विवरण : ।। चौपाई।।

श्री गणपति गुरुपद कमल, प्रेम सहित सिरनाय।

नवग्रह चालीसा कहत, शारद होत सहाय।।

जय जय रवि शशि सोम बुध जय गुरु भृगु शनि राज।

जयति राहु अरु केतु ग्रह करहुं अनुग्रह आज।।


।। श्री सूर्य स्तुति ।। 

प्रथमहि रवि कहं नावौं माथा, करहुं कृपा जनि जानि अनाथा।

हे आदित्य दिवाकर भानू, मैं मति मन्द महा अज्ञानू।

अब निज जन कहं हरहु कलेषा, दिनकर द्वादश रूप दिनेशा।

नमो भास्कर सूर्य प्रभाकर, अर्क मित्र अघ मोघ क्षमाकर।…………..

अन्य धार्मिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  “हिंदी धार्मिक पुस्तक”

To read other Religious books click here- “Hindi Religious Books”


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें



इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 

One Quotation / एक उद्धरण
“हर सुबह मैं पंद्रह मिनट अपने मस्तिष्क में प्रभु की भावनाओं को समाहित करता हूं; और इस प्रकार से चिंता के लिए इसमें कोई स्थान रिक्त नहीं रहता है।”
– हॉवर्ड शैंडलर क्रिस्टी


——————————–
“Every morning I spend fifteen minutes filling my mind full of God; and so there’s no room left for worry thoughts.”
– Howard Chandler Christy

Leave a Comment