श्रमण सूक्त : श्रीचंद रामपुरिया द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Shraman Sukta : by Shrichand Rampuriya Free Hindi PDF Book

Author
Category,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“अगर किसी को अपने कर्म में सुखी होना है, तो इन तीन चीजों की आवश्यकता है: वे उसके लिए उपयुक्त हों; वे इसकी अति न करें; और उन्हें इस कर्म में सफलता का आभास हो।” ‐ जॉन रस्किन
“In order that people may be happy in their work, these three things are needed: they must be fit for it; they must not do too much of it; and they must have a sense of success in it.” ‐ John Ruskin

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

श्रमण सूक्त : श्रीचंद रामपुरिया द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Shraman Sukta : by Shrichand Rampuriya Free Hindi PDF Book

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )

shraman-sukta-shrichand-rampuriya-श्रमण-सूक्त-श्रीचंद-रामपुरिया

पुस्तक का नाम / Name of Book : श्रमण सूक्त / Shraman Sukta

पुस्तक के लेखक / Author of Book : श्रीचंद रामपुरिया / Shrichand Rampuriya

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 7 MB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 494

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पुस्तक का विवरण : श्रमण भगवान् महावीर का जन्म-नाम वर्ध्दमान था| उन्होंने ३० वर्ष की अवस्था में गृह-त्याग कर मुनि जीवन अंगीकार किया और तभी से कठोर-दीर्घ तपस्या, ध्यान और प्राय मौन-साधना में जीवन को लगा दिया| वे शरीर की सार-संभाल नहीं करते थे| उसे आत्म-साधना के लिए न्यौछावर कर दिया………….

अन्य धार्मिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  “हिंदी धार्मिक पुस्तक”

Description about eBook : Shraman Lord Mahavira’s birth name was prominent. In 30 years of age, he accepted the life of his life, and from then on, he used to experience life in the harsh long meditation, meditation and silence. They did not handle the body. He left for self-meditation………………

To read other Religious books click here- “Hindi Religious Books”


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें



इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 

One Quotation / एक उद्धरण
“जब आप उम्मीद पर टिक जाते हैं तो कुछ भी संभव है। ”
– क्रिस्टोफर रीव


——————————–
“Once you choose hope, anything’s possible.”
– Christopher Reeve

Leave a Comment