वो दिन कैसे होगा जब आपको एक बूँद भी पीने का पानी नसीब ना हो ? सोच के देखिये आपकी क्या हालत होगी ?
सोचने से भी डर लगता है ना ?
अगर आप ऐसा भयानक समय अपने या अपने आने वाले बच्चों के लिए नहीं देखना चाहते तो पानी की रक्षा करें ( व्यर्थ ना बहने दें ) |

पुस्तक भेजें

अपनी पुस्तकों को हम तक कैसे पहुचाएं ?

जो भी मित्र अपनी पुस्तकें हम तक पंहुचाना चाहते हैं | वे सभी नीचे दिए गये इस फॉर्म को भर कर हम तक अपनी पुस्तकें भेज सकते हैं |

अगर आपकी पुस्तक 5 MB से ज्यादा की है, तो हमें इस ईमेल पर भेजे दें |
44kitab@gmail.com

आपकी पुस्तक हम जल्द से जल्द अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे | धन्यवाद

Comments 1

  1. Anonymous says:

    aapka prayas bahut sarahniya hai.
    Yah website aaj ki peedhi ko apne sanskriti se jodne me ek bahut mahatvapoorn
    bhoomika nibha rahi hai.
    aapke prayas ko pranaam!