साये और दरख़्त : तारिणी सिन्हा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Saye Aur Darakht : by Tarini Sinha Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Name साये और दरख़्त / Saye Aur Darakht
Author
Category, , , , , ,
Pages 78
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : यू तो हमारी मुलाकात महज चन्द दिनो की ही थी जैसा अक्सर दो सैलानियो मे हो जाया करता है। परन्तु बहुत गहरे वह मेरे जेहन मे यू समाई थी कि आज इतने सालो बाद भी लगता है सामने बैठी है। वही होटल का लॉन है और इस पुस्तक मे रची-बसी सभी घटनाये किस्से कहानियाँ मैं उसे एक बार फिर सुना रहा हूँ। मैं आज भी हैरान हूँ ऐसा…………

Pustak Ka Vivaran : Yu to hamari Mulakat mahaj chand dino ki hi thi jaisa aksar do sailaniyo me ho jaya karata hai. Parantu bahut gahare vah mere jehan me yu samaye thi ki Aaj itane salo bad bhi lagata hai samane baithi hai. Vahi hotel ka lon hai aur is pustak me rachi-basi sabhi Ghatanaye kisse kahaniyan main use ek bar phir suna raha hoon. Main Aaj bhi hairan hoon aisa…….

Description about eBook : Many times, Bokuden used to go out to see the world. Like other people on the road, he always wore simple clothes. But I used to carry my sword with him because some places were dangerous for a person traveling alone. Bokuden got a lot new from the new places during the journey and the new people found by the way ………

“जो कुछ भी इस विश्व को अघिक मानवीय और विवेकशील बनाता है उसे प्रगति कहते हैं; और केवल यही मापदंड हम इसके लिये अपना सकते हैं।” – डब्ल्यू. लिपमैन
“Anything that makes the world more humane and more rational is progress; that’s the only measuring stick we can apply to it.” – W. Lippmann

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment