रसाभास और भावाभास : केदारनाथ शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Rasabhas Aur Bhavabhas : by Kedarnath Sharma Hindi PDF Book – LIterature (Sahitya)

Book Name रसाभास और भावाभास / Rasabhas Aur Bhavabhas
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 306
Quality Good
Size 80.4 MB
Download Status Available

रसाभास और भावाभास पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : मेरी शैक्षणिक उपलब्धि पर मुझसे अधिक रुचि मेरे अग्रज श्री बद्रीनाथ जी की रही है।ईश्वर से प्रार्थना है कि मैं सदैव उनके स्नेह का पात्र बना रहूँ। इस अवसर पर ममता की देवी माता जी, स्वर्गीय पिता जी एवं छोटे भाई – बहनों की मूर्त्तियाँ भी मेरी स्मृतिपटल पर उभर कर आ रही हैं। हृदय उनके प्रति श्रद्धा एवं ख्रेह अनुभव कर रहा है। ग्रन्थ रचना के लिए सदा प्रेरित करने वाले अपने मित्र प॑० शिवदत्त शास्त्री का भी मैं कृत्ञ हूँ…

Rasabhas Aur Bhavabhas PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Meri Shaikshanik uplabdhi par mujhase adhik ruchi mere agraj shree badrinath jee ki rahi hai. Ishvar se prarthana hai ki main sadaiv unake sneh ka patr bana rahun. is avasar par mamata ki devi mata jee, svargeey pita jee evan chhote bhai – bahanon ki moorttiyan bhee meri smrtipatal par ubhar kar aa rahi hain. hrday unake prati shraddha evan sneh anubhav kar raha hai. Granth rachana ke liye sada prerit karane vale apane mitr Pt. Shivadatt shastri ka bhee main krtagy hoon……..

Short Description of Rasabhas Aur Bhavabhas Hindi PDF Book : My elder Mr. Badrinathji is more interested in my academic achievement. Pray to God that I always remain the object of his affection. On this occasion, statues of Mother Goddess of Mamta, Heavenly Father and younger siblings are also emerging on my memory. The heart is feeling reverence and affection for them. I am also grateful to my friend Pt. Shivdatta Shastri who always inspired me for the creation of the book……

 

“आज से सौ साल बाद इन बातों का कोई मायना नहीं होगा कि मेरा बैंक खाता कैसा था, में कैसे घर में रहता था, या मेरी कार कौन सी थी। लेकिन दुनिया शायद अलग हो सकती है अगर मैं किसी बालक के जीवन में महत्त्व रखता था।” ‐ फॉरेस्ट ई विटक्राफ्ट
“A hundred years from now it will not matter what my bank account was, the sort of house I lived in, or the kind of car I drove….but the world may be different because I was important in the life of a child.” ‐ Forest E. Witcraft

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment