रैन अंधेरी : मन्मथनाथ गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Rain Andheri : by Manmath Nath Gupt Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Name रैन अंधेरी / Rain Andheri
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 319
Quality Good
Size 25 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : राजेन्द्र को आश्चर्य हुआ कि यह बात रूपवती को कैसे मालूम है, क्योंकि उसने कभी इस बात का जिक्र नही किया था। तो उसे यह भी मालूम होगा कि वह कुछ राजनीतिक कैदियों को दिया जाने वाला विशेष व्यवहार लिए हुए था और आनन्द कुमार ने उसे ठुकरा दिया था। राजेन्द्र को यह बात बहुत………..

Pustak Ka Vivaran : Rajendra ko Aashchary huya ki yah bat Roopavati ko kaise maloom hai, kyonki usane kabhi is bat ka jikr nahi kiya tha. To use yah bhee maloom hoga ki vah kuchh Rajneetik kaidiyon ko diya jane vala vishesh vyavahar liye huye tha aur Aanand kumar ne use thukara diya tha. Rajendra ko yah bat bahut buri……….

Description about eBook : Rajendra wondered how Rupwati knew this, because she had never mentioned this thing. So he will also know that he was taking special treatment given to some political prisoners and Anand Kumar rejected him. This thing is very bad to Rajendra ……….

“मात्र वही सही कार्य होते हैं जिनके लिए कोई स्पष्टीकरण तथा कोई क्षमा न मांगनी पड़े।” ‐ रेड ओयूरबैक
“The only correct actions are those that demand no explanation and no apology.” ‐ Red Auerbach

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment