प्रेतनी का मायाजाल : राजीव कुलश्रेष्ठ द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Pretani Ka Mayajal : by Rajeev Kulshreshtha Free Hindi PDF Book

Author
Category, ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“ऐसे कानून व्यर्थ हैं जिनके अमल की व्यवस्था ही न हो।” ‐ इटली की कहावत
“Better no law than laws that are not enforced.” ‐ Italian proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

प्रेतनी का मायाजाल : राजीव कुलश्रेष्ठ द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Pretani Ka Mayajal : by Rajeev Kulshreshtha Free Hindi PDF Book 

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )

pretani-ka-mayajal-rajeev-kulshreshtha-प्रेतनी-का-मायाजाल-राजीव-कुलश्रेष्ठ

पुस्तक का नाम / Name of Book : प्रेतनी का मायाजाल / Pretani Ka Mayajal

पुस्तक के लेखक / Author of Book : राजीव कुलश्रेष्ठ / Rajeev Kulshreshtha

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 446 KB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 48

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पुस्तक का विवरण : लेखकीय- बहुत कम लोग इस अज्ञात तथ्य से परिचित होंगे कि पृथ्वी पर होने वाली सभी अकाल मृत्यु और स्वाभाविक मृत्यु के बाद तीस प्रतिशत लोग ‘प्रेतगति’ को प्राप्त होते हैं| इसमें अकाल मृत्यु वालों का दस से पंद्रह प्रतिशत होता है और लगभग पन्द्रह से बीस प्रतिशत ही स्वाभाविक मृत्यु से मरे लोगों का होता है| बीमारी, दुर्घटना, हत्या, टोना आदि द्वारा अकाल मृत्यु को प्राप्त हुए लोग, अभी उनकी आयु शेष रहने से, अपने सूक्ष्म आयु का ठीका पूर्ण होने तक भटकते रहते हैं…………..

अन्य हॉरर पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  “हिंदी हॉरर पुस्तक”

Description about eBook : Writing – Very few people will be familiar with this unknown fact that thirty percent of the people get ‘Pratagati’ after all the deaths and natural deaths occurring on earth. It contains ten to fifteen percent of the deaths of premature death and approximately 15 to 20 percent of people die from natural death. People who have received famine death by sickness, accident, murder, sorcery, etc., are still wandering till their completion of their astral age……………..

To read other Horror books click here- “Hindi Horror Books”


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें



इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 

One Quotation / एक उद्धरण
“भारी सफलता सर्वोत्तम प्रतिशोध है।”
– फ्रेंक सिनात्रा


——————————–
“The best revenge is massive success.” 
– Frank Sinatra

2 thoughts on “प्रेतनी का मायाजाल : राजीव कुलश्रेष्ठ द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Pretani Ka Mayajal : by Rajeev Kulshreshtha Free Hindi PDF Book”

Leave a Comment