प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book

Author
Category,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“ना कहने का साहस रखें। सच्चाई का सामना करने का साहस रखें। सही कार्य करें क्योंकि यह सही है। यह जीवन को सत्यनिष्ठा से जीने की जादुई चाबियां हैं।” – डब्ल्यू क्लेमैन्ट स्टोन
“Have the courage to say no. Have the courage to face the truth. Do the right thing because it is right. These are the magic keys to living your life with integrity.” – W. Clement Stone

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा  मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book 

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )
premgatha-kavya-sangrah-gulab-ray-प्रेमगाथा-काव्य-संग्रह-गुलाबराय

पुस्तक का नाम / Name of Book : प्रेमगाथा काव्य संग्रह / Premgatha Kavya Sangrah

पुस्तक के लेखक / Author of Book : गुलाबराय / Gulab Ray

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 15.5 MB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 410

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पुस्तक का विवरण : हिंदी साहित्य में भाव और शैली दोनों ही दृष्टियों से प्रेममार्गी कवियों का एक अपना  स्थान है| उनके महत्वपूर्ण योग की उपेक्षा नहीं की जा सकती, पर यह दुःख का विषय है कि अभी तक इस धारा के प्रमुख कवियों की कृतियाँ सुसंपादित रूप में हमारे समक्ष नहीं आ सकी हैं| इसी कमी को ध्यान में रखकर संक्षेप में इस धारा के परिचय के लिए हिन्दुस्तान एकेडमी ने आज से 11-12 वर्ष पूर्व इसके प्रमुख पाँच कवियों की कृतियों का संक्षिप्त संग्रह ‘हिंदी के कवि और काव्य’, भाग 3, नाम से प्रकाशित किया था……………

 अन्य काव्य पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  “काव्य पुस्तक”

Description about eBook : Hindi literature and style, both in the sense of a place of poets is Premmargi. They can not ignore the significant sum, but it is a matter of sorrow that still works by major poets of this section could not come to us as if Susnpadit. Taking into account the reduction in a short introduction to this section of the Indian Academy 11-12 years ago today, a brief collection of the works of the major five poets ‘poet of Hindi and poetry’, part 3, was published in the name……………….

To read other Poetry books click here- “Poetry Books”

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें



इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 

One Quotation / एक उद्धरण
“हमेशा तर्क करने वाला दिमाग सिर्फ धार वाले चाकू की तरह है जो प्रयोग करने वाले के हाथ से ही खून निकाल देता है।”
– रवीन्द्रनाथ टैगोर


——————————–
“A mind all logic is like a knife all blade. It makes the hand bleed that uses it.” 
– Rabindranath Tagore

प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा  मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा  मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा  मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा  मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा  मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा  मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book प्रेमगाथा काव्य संग्रह : गुलाबराय द्वारा  मुफ्त हिंदी पीडीएफ पुस्तक | Premgatha Kavya Sangrah : by Gulab Ray Free Hindi PDF Book 

Leave a Comment