परिव्राजक की प्रजा : शान्तिप्रिय द्विवेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Parivrajak Ki Praja : by Shantipriya Dwivedi Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

Book Name परिव्राजक की प्रजा / Parivrajak Ki Praja
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 285
Quality Good
Size 21 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गाँव के मुहाने पर पूरब ओर शिवजी का छोटा-सा मन्दिर हे, जिसका पतला शिखर दूर से झूज्य के ललाट पर तिलक-जैसा लगता है। मन्दिर के बगल में न जाने कितने युगों को असंख्य स्मृतियों को अपनी छाया में विश्राम देने वाला पुरखों जैसा पुराना पीपल का विशाल वृक्ष है। मन्दिर और पीपल के बीच से गाँव की टेढ़ी-मेढ़ी……….

Pustak Ka Vivaran : Ganv ke muhane par poorab or shivaji ka chhota-sa mandir hai, jisaka patala shikhar door se jhoojy ke lalat par tilak-jaisa lagata hai. Mandir ke bagal mein na jane kitane yugon ko asankhy smrtiyon ko apani chhaya mein vishram dene vala purakhon jaisa purana peepal ka vishal vrksh hai. Mandir aur peepal ke beech se Ganv kee tedhee-medhee…….

Description about eBook : On the east side of the village there is a small temple of Shiva, on the east, whose thin peak looks like a tilak on the front of the tree. Not knowing how many epochs next to the temple, there is a huge old peepal tree like ancestors resting innumerable memories in its shadow. The zigzag of the village between the temple and the peepal …….

“कोई गलती न करना मनुष्य के बूते की बात नहीं है, लेकिन अपनी त्रुटियों और गलतियों से समझदार व्यक्ति भविष्य के लिए बुद्धिमत्ता अवश्य सीख लेते हैं।” ‐ प्लूटार्क
“To make no mistakes is not in the power of man; but from their errors and mistakes the wise and good learn wisdom for the future.” ‐ Plutarch

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment