पराग (लल वाख) : पुष्कर नाथ रैना द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Parag (Lal Vakh) : by Pushkar Nath Raina Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Name पराग (लल वाख) / Parag (Lal Vakh)
Author
Category, , , ,
Language
Pages 290
Quality Good
Size 98 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : नवीन कवियों के उन प्रयासों को जनमानस के सामने लाना जिन में वह अपने को लल के समतुल्य मानकर, लत की शैली अपनाने का प्रयास कर, ललेशरी के वाक्यों का स्वरुप बदल कर, अथवा अपने वाक्यों में अपने नाम की जगह लल के नाम का उपयोग करके भ्रम उत्पन कर रहे हैं………

Pustak Ka Vivaran : Naveen kaviyon ke un prayason ko Janmanas ke Samane lana jin mein vah apane ko lal ke samatuly mankar, lat ki shaili apanane ka prayas kar, laleshari ke vakyon ka svarup badal kar, athava apane vakyon mein apane nam ki jagah lal ke nam ka upayog karake bhram utpan kar rahe hain………

Description about eBook : To bring those efforts of new poets to the public, in which they consider themselves to be equal to Lal, by trying to adopt the style of addiction, by changing the form of Laleshari’s sentences, or by using Lal’s name instead of his name in his sentences. Creating confusion………

“आप जब तक अपनी हैसियत से समझौता नहीं कर लेते, आपके पास जो कुछ है उससे आप संतुष्ट नहीं रह सकेंगे।” – डोरिस मॉर्टमैन
“Until you make peace with who you are, you’ll never be content with what you have.” -Doris Mortman

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment