पहिये की घुरी : केदारनाथ मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Pahiye Ki Ghuri : by Kedarnath Mishra Hindi PDF Book

Author
Category, ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“हम जो हैं वही बने रहकर वह नहीं बन सकते जो कि हम बनना चाहते हैं।” – मैक्स डेप्री
“We cannot become what we need to be by remaining what we are.” – Max Depree

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

पहिये की घुरी : केदारनाथ मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Pahiye Ki Ghuri : by Kedarnath Mishra Hindi PDF Book

पहिये की घुरी : केदारनाथ मिश्र हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Pahiye Ki Ghuri : by Kedarnath Mishra Hindi PDF Book

  • Pustak Ka Naam / Name of Book : पहिये की घुरी / Pahiye Ki Ghuri Hindi Book in PDF
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book : केदारनाथ मिश्र / Kedarnath Mishra
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 04.0 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 148
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पहिये की घुरी : केदारनाथ मिश्र हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Pahiye Ki Ghuri : by Kedarnath Mishra Hindi PDF Book

Pustak Ka Vivaran : kisee bhee desh ke saahity ka visangat athava aniyamit vikaas nahin hota. vah bhinn bhinn paristhiyon ke sangam ka svaabhavik evan aanivaary parinaam hai, aur kalpana, sthaapaty, sanvidhaan, shilp, roop rang aadi aadi dishaon mein parilakshit hota hai kaheen charam tak panhucha hua…………

अन्य हिंदी कहानी पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “कहानी हिंदी पुस्तक

Description about eBook : The illogical or irregular development of literature of any country does not exist. It is an inherent and indispensable result of the confluence of different situations, and reflected in the directions, architecture, constitution, craft, color, etc. etc., reached somewhere far……………..

To read other Hindi Story books click here- “Hindi Story Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“जब हम कठिन कार्यों को चुनौती के रुप में स्वीकार करते हैं और उन्हें खुशी और उत्साह से निष्पादित करते हैं, तो चमत्कार हो सकते हैं।”
– अल्बर्ट गिल्बर्ट
——————————–
“When we accept tough jobs as a challenge and wade into them with joy and enthusiasm, miracles can happen.”
– Arland Gilbert
Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment