नीम की निबौलियाँ : गुरुबचन सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Neem Ki Nibauliyan : by Gurubachan Singh Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Name नीम की निबौलियाँ / Neem Ki Nibauliyan
Author
Category, , ,
Language
Pages 51
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

नीम की निबौलियाँ का संछिप्त विवरण : मुझे उस समाज से कोई मोह नहीं, जो एक लाचार मनुष्य को, मनुष्य न रहने दे कर, पत्न्‌ से भी बदत्तर बना दता है। मेरे लिए उत्तआदर्शों का कोई महत्त्व नही, जो सैद्धांतिक रूप में तो सुन्दर लगते है, लेकिन जिनका व्यावहारिक रूप गिरगरिट की तरह रंग बदलता रहता है। मुझे वह कुछ मी अच्छा नहीं लगता, जिसमें जन-जीवन का कल्याण नहीं, जो मनुष्य के जीवन और विचार को ऊँचा……..

Neem Ki Nibauliyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Mujhe us Samaj se koi moh nahin, jo ek lachar manushy ko, manushy na rahane de kar, patn‌ se bhi badattar bana data hai. Mere liye uttadarshon ka koi mahattv nahi, jo saiddhantik roop mein to sundar lagate hai, lekin jinaka vyavaharik roop giragarit ki tarah rang badalata rahata hai. Mujhe vah kuchh mi achchha nahin lagata, jisamen jan-jeevan ka kalyan nahin, jo manushy ke jeevan aur vichar ko ooncha……..
Short Description of Neem Ki Nibauliyan PDF Book : I have no attachment to that society, which makes a helpless man worse than a wife by not allowing her to remain a man. For me the ideals are of no importance, which in principle look beautiful, but whose practical form keeps on changing color like a chameleon. I do not like that thing, in which there is no welfare of public life, which elevates the life and thought of man…….
“सफलता के लिए एलेवेटर कार्य नहीं कर रहा है। आपको सीढ़ियों का उपयोग करना होगा। एक बार में एक कदम।” जोए गिरार्ड
“The elevator to success is out of order. You’ll have to use the stairs, one step at a time.” Joe Girard

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment