मुन्शी जी और उनकी प्रतिभा : सीताराम चतुर्वेदी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Munshi Ji Aur Unki Pratibha : by Sitaram Chaturvedi Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Name मुन्शी जी और उनकी प्रतिभा / Munshi Ji Aur Unki Pratibha
Author
Category, , , , , , , , ,
Language
Pages 206
Quality Good
Size 6.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : श्रीमती तापी बाई ने उन्हें घर की चिन्ता से मुक्त कर दिया था | अरुन्धती और अनुसुइया की परम्परा में सधी हुईं पतिव्रता के समान उनका सम्पूर्ण आयास पति को सुखी करने में लगा रहता था और इसलिए वे गृहस्थी के देवी सुख की साक्षात्‌ प्रतिमूर्ति थी। अनिंद्य और अविरल स्रेह के सुधा-सागर में संनिमग्न होकर वे अपने पति के अर्जित…..

Pustak Ka Vivaran : Shrimati Tapi bai ne unhen ghar ki chinta se mukt kar diya tha . Arundhati aur anusuiya ki parampara mein sadhi huyin pativrata ke saman unaka sampurn aayas pati ko sukhi karane mein laga rahata tha aur isaliye ve grhasthi ke devi sukh ki sakshat pratimurti thee. Anindy aur aviral sneh ke sudha-sagar mein sannimagn hokar ve apane pati ke arjit…………

Description about eBook : Mrs. Tapi Bai had freed him from the worries of the house. Like Arundhati and Anusuiya’s tradition of devotion, their entire ayas used to make their husband happy and hence she was an interviewed manifestation of the divine happiness of the householder. They earned their husbands by being absorbed in the Sudha-Sagar of indecisive and unending affection …………

“मैं इस आसान धर्म में विश्वास रखता हूं। मन्दिरों की कोई आवश्यकता नहीं; जटिल दर्शनशास्त्र की कोई आवश्यकता नहीं। हमारा मस्तिष्क, हमारा हृदय ही हमारा मन्दिर है; और दयालुता जीवन-दर्शन है।” ‐ दलाई लामा
“This is my simple religion. There is no need for temples; no need for complicated philosophy. Our own brain, our own heart is our temple; the philosophy is kindness.” ‐ Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment