मध्यप्रदेश का इतिहास और नागपुर के भोंसले : पं० प्रयागदत्त शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Madhya Pradesh Ka Itihas Aur Nagpur Ke Bhonsale : by Pt. Prayag Datt Shukla Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Name मध्यप्रदेश का इतिहास और नागपुर के भोंसले / Madhya Pradesh Ka Itihas Aur Nagpur Ke Bhonsale
Author
Category, , , ,
Language
Pages 238
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अपना देश चलाया। हैहय का प्रतापी पुत्र धर्मनेत्र था और पौत्र कीर्ति और कान्त थे। कीर्ति का पुत्र भद्रसेन और उसका पुत्र दुर्मद था। दुर्मद का पुत्र कनक जिसके कृतबीर्य, कृतीजा, कृतवर्मी और कृताप्रि नामक चार पुत्र थे | कृतवीर्य का पुत्र कातबीय या सहस्त्रबाहु था, जिसका उल्लेख इस वंश के शिलालेखों तथा ताम्रपत्रों में सगर्व किया गया है……

Pustak Ka Vivaran : Apna desh chalaya. Haihay ka pratapi putra dharmanetra tha aur pautr keerti aur kant the. Keerti ka putra bhadrasen aur usaka putra durmad tha. Durmad ka putra kanak jisake krtabeery, krtauja, krtavarmi aur krtapni namak char putra the. Krtaviry ka Putra katbeey ya sahastrabahu tha, jisaka ullekh is vansh ke shilalekhon tatha tamrapatron mein sagarv kiya gaya hai…….

Description about eBook : Run your country. Hayhay’s majestic son was Dharmanetra and grandchildren were Kirti and Kant. Kirti’s son was Bhadrasen and his son Dharmad. Kanak, the son of Dharmad, who had four sons named Kritabirya, Kritauja, Kritavarmi and Kritapani. The son of Kritavirya was Katabiyya or Sahastrabahu, who is mentioned in the inscriptions and copper letters of this dynasty …….

“जीवन का महानतम उपयोग इसे किन्हीं ऐसे अच्छे कार्यों पर व्यय करना है जो कि इसके जाने के बाद भी बने रहें।” ‐ विलियम जेम्स
“The greatest use of a life is to spend it for something that will outlast it.” ‐ William James

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment