माँ : मक्सिम गोर्की द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Maa : by Maxim Gorky Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Name माँ / Maa
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 448
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रत्येक भाषा में कुछ पुस्तकें ऐसी होती है जो उस भाषा के साहित्य के इतिहास में मील का पत्थर, या यहाँ तक कि मोड़-बिंदु बन जाती है। मक्सिम गोर्की की माँ रूसियों के लिए एक ही पुस्तक है। हालाँकि यह पुस्तक रूस में सोवियत सत्ता की स्थापना से दस वर्षों पहले लिखी गयी थी……..

Pustak Ka Vivaran : Pratyek bhasha mein kuchh pustaken aisee hoti hai jo us bhasha ke sahity ke itihas mein meel ka patthar, ya yahan tak ki mod-bindu ban jati hai. Maxim gorky kee man roosiyon ke liye ek hee pustak hai. Halanki yah pustak roos mein soviyat satta kee sthapana se das varshon pahale likhee gayi thee…………

Description about eBook : Each language has certain books that become milestones, or even turning points in the history of literature of that language. Maksim Gorky’s mother is a single book for Russians. Although this book was written ten years before the establishment of Soviet power in Russia………..

“वह व्यक्ति बुद्धिमान है जो उन वस्तुओं के लिए दुःख नहीं मनाता जो उसके पास नहीं हैं, लेकिन उनके लिए आनन्द मनाता है जो उसके पास हैं।” ‐ एपिक्टेट्स
“He is a wise man who does not grieve for the things which he has not, but rejoices for those which he has.” ‐ Epictetus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment