क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा | Kyu Kyu Ladki : by Mahasweta Devi

Author
Category, ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“मेरे विचार से जो व्यक्ति जिंदा रहने अर्थात पैसे के लिए किसी कार्य को करता है, वह स्वयं को गुलाम बना लेता है।” ‐ जोसेफ कैम्पबैल
“I think the person who takes a job in order to live that is to say, for the money has turned himself into a slave.” ‐ Joseph Campbell

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book

( Download Link Given Below / डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया हैं )
Kyu-Kyu-Ladki-Mahasweta-Devi-क्यूँ-क्यूँ-लड़की-महाश्वेता-देवी

पुस्तक का नाम / Name of Book : क्यूँ क्यूँ लड़की

पुस्तक के लेखक / Author of Book : महाश्वेता देवी

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी 

Size of Ebook : 5.6 MB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 25

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

पुस्तक का विवरण / Description about ebook : “पर
क्यूँ?” यह सवाल था एक छोटी-सी, कोई दस बरस की लड़की का | वह एक बड़े-से
सांप के पीछे भाग रही थी | में उसके पीछे दौड़ी | उसकी छोटी पकड़कर, उसे पीछे
की ओर खींचते हुए में चिल्लाई, “नहीं, मोयना, मत करो!” “क्यूँ न करुण?”
उसने पूछा | “यह कोई धामिन सांप या घास सांप नहीं है/” मैंने जवाब दिया |
“में नाग को क्यूँ न पकडूँ?” “क्यूँ पकड़ना है तुम्हें?” “हम सांप खाते हैं,
पता है,” मोयना ने कहा | “सिर काटते हैं, चमड़ी बेचते हैं, मांस पकाते
हैं|” “हाँ, पर इस बार मत करो,”मैंने कहा | “में करुँगी, में करुँगी!”
“नहीं, बच्चे |” “पर क्यूँ?” ………..

 



सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें


http://db.44books.com/2016/11/blog-post_11.html

इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 







https://amzn.to/2eYmqhr

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 

One Quotation / एक उद्धरण
“चीजों को नज़रअंदाज़ करने की काबिलियत हासिल करना मन की शांति प्राप्त करने का उत्तम तरीका है।”
अज्ञात
——————————–
“Learning to ignore things is one of the great paths to inner peace.” 
– Anonymous

क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book क्यूँ क्यूँ लड़की : महाश्वेता देवी द्वारा हिंदी पुस्तक | Kyu Kyu Ladki by Mahasweta Devi Hindi Book

Leave a Comment