खरीदी कौडियों के मोल खण्ड – २ : विमल मित्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Kharidi Kaudiyion Ke Mol Vol – 2 : by Vimal Mitra Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Name खरीदी कौडियों के मोल खण्ड - २ / Kharidi Kaudiyion Ke Mol Vol - 2
Author
Category, ,
Language
Pages 691
Quality Good
Size 47 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : फिर बही दफ्तर | फिर वही जीवन | नयी कुर्सी पर बैठकर भी मानो पुराने दफ्तर की बू मिलती है, जिससे मन कसैला हो उठता है | मिस्टर घोषाल के कमरे में बैठकर भी दीपकर मानो पुराने दिनों की बातें भूल नहीं पाता | सवेरे का वह माहौल अब भी दिमाग पर छाया हुआ है| न जाने कब फाइलें आकर मेज पर जमा हुई और………

Pustak Ka Vivaran : Phir vahi Daphtar. Phir vahi jeevan. Nayi kursi par baithakar bhi mano purane daphtar ki boo milati hai, Jisase man kasaila ho uthata hai. Mistar Ghoshal ke kamare mein baithakar bhi deepakar mano purane dinon ki baten bhool nahin pata. Savere ka vah mahaul ab bhi dimag par chhaya huya hai. Na jane kab phailen Akar mej par jama huyi Aur………….

Description about eBook : Then the same office. Then the same life. Even sitting on a new chair, like the old office gets a boon, the mind gets astral. Even sitting in the room of Mr Ghosal, Deepak does not forget the old days. The atmosphere of the morning is still crouched on the mind. Do not know when files came and sat on the table and…………..

“जब तक किसी व्यक्ति द्वारा अपनी संभावनाओं से अधिक कार्य नहीं किया जाता है, तब तक उस व्यक्ति द्वारा वह सब कुछ नहीं किया जा सकेगा जो वह कर सकता है।” हेनरी ड्रम्मन्ड
“Unless a man undertakes more than he possibly can do, he will never do all that he can.” Henry Drummond

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment