करवाचौथ व्रत कथा : पं० महेश शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Karwachauth Vrat Katha : by Pt. Mahesh Sharma Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

Book Name करवाचौथ व्रत कथा / Karwachauth Vrat Katha
Author
Category, , , , , , , ,
Language
Pages 45
Quality Good
Size 1365 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : भारतवर्ष में त्योहारों की एक लम्बी परम्परा रही है। प्रत्येक दिन का किसी न किसी देवता से जुड़े होना उसी पर॑परा की देन है। किसी ने कितनी सही बात कही है कि जीवन एक मीठे गन्ने की तरह है, जिसकी पोर-पोर रस से भरी है, ये पर्व हमें उसी रस के आस्वादन की प्रेरणा देते हैं, आस्वादन कराते हैं। यहां सभी पर्व व त्योहार उत्साह, उमंग और श्रद्धा के साथ…….

Pustak Ka Vivaran : Bharatavarsh mein Tyoharon ki ek lambi parampara rahi hai. Pratyek din ka kisi na kisi devata se jude hona usee parampara ki den hai. Kisi ne kitani sahi bat kahi hai ki jeevan ek meethe ganne ki tarah hai, jisaki por-por ras se bhari hai, ye parv hamen usi ras ke Aasvadan ki prerana dete hain, Aasvadan karate hain. Yahan sabhi parv va tyohar utsah, umang aur shraddha ke sath……….

Description about eBook : There is a long tradition of festivals in India. Every day is associated with some other deity, a result of that tradition. How someone has rightly said that life is like a sweet sugarcane, which is filled with pore juice, these festivals inspire us to taste that juice, to make it tasteful. All festivals and festivals here with enthusiasm, enthusiasm and reverence ………..

“कल तो चला गया। आने वाले कल अभी आया नहीं है। हमारे पास केवल आज है। आईये शुरुआत करें।” ‐ मदर टेरेसा
“Yesterday is gone. Tomorrow has not yet come. We have only today. Let us begin.” ‐ Mother Teresa

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment