कल की दुनिया : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Kal Ki Duniya : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Name कल की दुनिया / Kal Ki Duniya
Category, , , , , ,
Language
Pages 174
Quality Good
Size 7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : पर हम एक बात नहीं भूल सकते। युद्ध और विज्ञान अविच्छेद अवश्य है, पर उनमें एक बहुत फर्क है। युद्ध हमेशा ही विनाशक होता है , आज तक किसी ने युद्ध को प्रत्यक्ष रूप से संस्कृति-संवर्धक नहीं कहा (अप्रत्यक्ष रूप से है ही, क्योंकि इसी के कारण विज्ञान की और ज्ञान की उन्नति होती है ) पर विज्ञान विनाशक से अधिक विधायक रहा है। विज्ञान प्रारम्भ से स्वतंत्र…….

Pustak Ka Vivaran : Par Ham Ek Bat nahin bhool sakate. Yuddh aur vigyan avichchhed avashy hai, par unamen ek bahut phark hai. Yuddh Hamesha hee vinashak hota hai , Aaj tak kisi ne yuddh ko pratyaksh roop se sanskrti-sanvardhak nahin kaha (apratyaksh roop se hai hee, kyonki isee ke karan vigyan kee aur gyan kee unnati hoti hai ) par vigyan vinashak se adhik vidhayak raha hai. Vigyan prarambh se svatantra…………

Description about eBook : But we cannot forget one thing. War and science are indestructible, but there is a lot of difference between them. War is always destructive, till date no one has called war directly culture-enhancing (it is only indirectly, because of this, because of the advancement of science and knowledge), but science has been more legislative than destroyer. Independent of science………..

“हमें कुछ भी ऐसा नहीं करना चाहिए जिसे हम अपने बच्चों को करते हुए देखने के इच्छुक नहीं है।” ‐ ब्रिघम यंग
“We should never permit ourselves to do anything that we are not willing to see our children do.” ‐ Brigham Young

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment