ज्यो मछली बिन नीर : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Jyo Machhali Bin Neer : by Osho Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

Book Name ज्यो मछली बिन नीर / Jyo Machhali Bin Neer
Author
Category, , ,
Language
Pages 218
Quality Good
Size 2.4 MB

पुस्तक का विवरण : पहला प्रश्नः भगवान, संत रज्जब ने क्या हम सोए हुए लोगों को देख कर से कहा है: ज्यू मछली बिन नीर। समझाने की अनुकंपा करें। नरेंद्र बोधिसत्व, और किसको देख कर कहेंगे ? सोए लोगों की जमात ही है। तरह तरह की नींदें है। अलग अलग ढंग हैं सोए होने के। कोई पद की शराब पी कर सोया है। लेकिन सारी मनुष्यता सोयी हुई है………

ज्यो मछली बिन नीर : ओशो द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Jyo Machhali Bin Neer : by Osho Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)

Pustak Ka Vivaran : Pahala prashnah Bhagavan, sant Rajjab ne kya ham soe hue logon ko dekh kar se kaha hai: jyoo machhalee bin neer. Samajhane ki anukampa karen. Narendr bodhisatv, aur kisako dekh kar kahenge? Soe logon ki jamat hi hai. Tarah tarah ki ninden hai. Alag alag dhang hain soe hone ke. Koi pad ki sharab pi kar soya hai. Lekin sari manushyata soyi hui hai…………..

Description about eBook : First question: Lord, Sage RAJBAB has said to the people who slept, and said: JU FISH BIN NEER Compose to explain. Narendra Bodhisattva, and who will see and see? Soy is a tribe of people. There are different kinds of sleeps. There are different ways of being asleep There is no soy sleeping of a post. But the whole humanity is comforting…………..

“हर दिन मेरा सर्वश्रेष्ठ दिन है; यह मेरी जिन्दगी है। मेरे पास यह क्षण दुबारा नहीं होगा।” ‐ बर्नी सीगल
“Every day is my best day; this is my life. I’m not going to have this moment again.” ‐ Bernie Siegel

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment