जेएनयू का सच : शंकर शरण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | JNU Ka Sach : by Shankar Sharan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Author
Category, , , ,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“यदि आपको सफलता की अपेक्षा है तो इसका लक्ष्य न बनाएं; अपितु वही करें जो आपको प्रिय है और विश्वास रखें और स्वाभाविक रूप से आप इसे हासिल कर सकेगें।” ‐ डेविड फ्रास्ट
“Don’t aim for success if you want it; just do what you love and believe in, and it will come naturally.” ‐ David Frost

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

जेएनयू का सच : शंकर शरण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | JNU Ka Sach : by Shankar Sharan Hindi PDF Book – Social (Samajik)

जेएनयू का सच : शंकर शरण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | JNU Ka Sach : by Shankar Sharan Hindi PDF Book - Social (Samajik)

Pustak Ka Naam / Name of Book : जेएनयू का सच / JNU Ka Sach Hindi Book in PDF
Pustak Ke Lekhak / Author of Book : शंकर शरण / Shankar Sharan
Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 1.7 MB
Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 50
Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

 

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

जेएनयू का सच : शंकर शरण द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | JNU Ka Sach : by Shankar Sharan Hindi PDF Book - Social (Samajik)

Pustak Ka Vivaran : JNU banane ke Nirnay ke bad Indira Gandhi jald hi pradhanmantree ban gayin. Unake pramukh sachiv P.N. haksar purane marksavadi the . Unhonne akadamiyon, uchch padon aur Niyuktiyan karane vale padon par anek marksavadiyon ki niyukti ki. Us mein yogyata ka bhee dhyan nahin rakha jata tha . Yahan tak ki ek bar kisi ki Niyukti par etaraj karane par……….

 

अन्य सामाजिक पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “सामाजिक हिंदी पुस्तक

Description about eBook : Indira Gandhi soon became Prime Minister after the decision to form JNU. His principal secretary P.N. Haksar was an old Marxist. He appointed a number of Marxists to academies, higher posts and appointing posts. Qualifications were not taken care of in that. Even once objecting to someone’s appointment……….

 

 

To read other Social books click here- “Social Hindi Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“अपनों में दूसरों की रुचि जगाने का प्रयास कर आप जितने मित्र दस वर्षों में बना सकतें हैं, उससे कहीं अधिक मित्र आप दूसरों में अपनी रुचि दिखा कर एक माह में बना सकते हैं।”
चार्ल्स ऐलन
——————————–
“You can make more friends in a month by being interested in them than in ten years by trying to get them interested in you.”
Charles Allen

Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment