हम एक उम्र से वाकिफ हैं : हरिशंकर परसाई द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Ham Ek Umra Se Wakif Hain : by Harishankar Parsai Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

Book Name हम एक उम्र से वाकिफ हैं / Ham Ek Umra Se Wakif Hain
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 151
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : काफी जड़, दकियानूस, कट्टर, अविवेकी शास्त्रियों से भी लड़ाई पड़ी। न ये नई वास्तविकता को ग्रहण कर सकते है, न नया सोच सकते है। दर्शन के फाटक पर चौकीदार बने बैठे हैं और दिनभर मक्खी उड़ाने की रोटी खाते हैं। मैं भारतीय क्लासिकों का शुरू से अध्येता रहा हूँ और इनका खुलकर उपयोग करता हूँ। मध्य युग के तुलसीदास……..

Pustak Ka Vivaran : Kafi jad, dakiyanus, kattar, Aviveki Shastriyon se bhi Ladai padi. Na ye nai vastavikata ko grahan kar sakate hai, na naya soch sakate hai. Darshan ke phatak par chaukidar bane baithe hain aur dinabhar makkhi udane ki Roti khate hain. Main Bharatiya Clasikon ka shuroo se adhyeta raha hoon aur inaka khulakar upayog karata hoon. Madhy yug ke Tulsidas………

Description about eBook : There was also a fight against the hard-hearted, staunch, staunch, inconsiderate scribes. Neither can they accept the new reality, nor can they think new. They are sitting watchmen at the gate of Darshan and eat bread flying all day long. I have been a scholar of Indian classics from the beginning and use them openly. Tulsidas of the Middle Ages ………

“आप इस जीवन में सबसे बड़ी गलती यह कर सकते हैं कि आप निरन्तर इस बात को लेकर डरते रहें कि आप कोई गलती कर देंगे।” एल्बर्ट हुब्बार्ड
“The greatest mistake you can make in this life is to continually fear you will make one.” Elbert Hubbard

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment