एक श्रावणी दोपहरी की धूप : फणीश्वरनाथ रेणु द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कहानी | Ek Shravani Dophari Ki Dhoop : by Phanishvarnath Regu Hindi PDF Book – Story (Kahani)

Book Name एक श्रावणी दोपहरी की धूप / Ek Shravani Dophari Ki Dhoop
Author
Category, ,
Language
Pages 146
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

एक श्रावणी दोपहरी की धूप का संछिप्त विवरण : मैं रात को लिखता हूँ। जिस रात लिखना होता है, बहुत हल्का भोजन लेता हूँ। बिस्तर पर लेटकर, पेट के नीचे तकिया दबाकर लिखता हूँ। इसी सम्बन्ध में एक मजेदार वात। मैं जब लिखता हैं, तो रात बहुत देर तक लिखता हूँ, जब तक मन की भड़ास नही निकल जाती | फिर दिन चढे तक सोता रहता हें। नौ, दस बजे………

Ek Shravani Dophari Ki Dhoop PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Main Rat ko likhata hoon. Jis Rat likhana hota hai, bahut halka bhojan leta hoon. Bister par letakar, pet ke neeche takiya dabakar likhata hoon. Isi sambandh mein ek majedar vat. Main jab likhata hain, to rat bahut der tak likhata hoon, jab tak man ki bhadas nahee nikal jati. Phir din chadhe tak sota rahata hen. nau, das baje……
Short Description of Ek Shravani Dophari Ki Dhoop PDF Book : I write at night. The night I have to write, I take very light food. Lying on the bed, I write by pressing the pillow under my stomach. A funny story in this regard. When I write, I write for a long time till my anger goes away. Then he sleeps till the day goes on. Nine, ten o’clock…..
“मैं इस आसान धर्म में विश्वास रखता हूं। मन्दिरों की कोई आवश्यकता नहीं; जटिल दर्शनशास्त्र की कोई आवश्यकता नहीं। हमारा मस्तिष्क, हमारा हृदय ही हमारा मन्दिर है; और दयालुता जीवन-दर्शन है।” – दलाई लामा
“This is my simple religion. There is no need for temples; no need for complicated philosophy. Our own brain, our own heart is our temple; the philosophy is kindness.” – Dalai Lama

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment