ध्रुवस्वामिनी : जयशंकर प्रसाद द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Dhruvswamini : by Jay Shankar Prasad Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Name ध्रुवस्वामिनी / Dhruvswamini
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 40
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : शिविर का पिछला भाग जिसके पीछे पर्वतमाला की प्राचीर है, शिविर का एक कोना दिखलाई दे रहा है जिससे सटा हुआ चल्द्रातप टंगा है। मोटी-मोटी रेशमी डोरियों से सुनहले काम के परदे से बँधे हैं। दो-तीन सुन्दर मंच रखे हुए हैं। चन्द्रातप और पहाड़ी के बीच छोटा-सा कुंज, पहाड़ी पर से एक पतली जलधारा उस हरियाली में बहती है। झरने के पास शिलाओं से चिपकी……..

Pustak Ka Vivaran : Shivir ka pichla bhag parvatmala ki prachir hai, shivir ka ek kona dikhlai de raha hai jisse sata hua chandratap tanga hai. Moti-Moti reshmi doriyo se sunhale kaam ke parde khambo se bandhe the. Do-teen sundar manch rakhe hue the. Chandratap aur pahadi ke bich chota sa kunj, pahadi par se ek patli jaldhara us hariyali mein bahti hai…………………………….

Description about eBook : The back part of the camp is the ramparts of the mountain range, a corner of the camp is showing, which has been closed by Chandratap. Thick and thick silk doriyas were tied with golden kimbo. Two or three beautiful platforms were kept. A small stream between the Chandratap and the hill, a thin stream from the hill runs in that greener…………………………..

“जो तुच्छ मामलों में सत्य के साथ लापरवाह हो उस पर महत्त्वपूर्ण मामलों में ऐसा नहीं करने का भरोसा नहीं किया जा सकता है।” अल्बर्ट आइंसटीन
“Whoever is careless with the truth in small matters cannot be trusted with important matters.” Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment