चन्द्रकान्ता सन्तति : देवकीनंदन खत्री द्वारा हिन्दी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Chandra Kanta Santati : by Devakinandan Khatri Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Name चन्द्रकान्ता सन्तति / Chandra Kanta Santati
Author
Category, , , ,
Language
Pages 266
Quality Good
Size 7.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जब ये लडके कुछ बड़े और बातचीत करने लायक हुए तब इनके लिखने पढ़ने और तालीम का इंतजाम किया गया और राजा सुरेेंद्रसिंह ने इन चारों लड़कों को जीतसिंह की शांगीदी और हिफाजत में छोड़ दिया | भैरोसिंह और तारासिंह ऐयारी के फन में बड़े ही तेज और चालाक निकले | उनकी ऐयारी का इंतिहान बराबर लिया जाता था ……….

Pustak Ka Vivaran : Jab ye Ladaki kuchh bade Aur batachit karane Layak huye tab Inke Likhne padhane aur Talim ka Intajam kiya Gaya aur Raja Surendra singh ne in charon ladakon ko jeeta singh ki shangidi aur hiphajat mein chhod diya. Bhairosinh aur Tarasingh Aiyari ke phan mein bade hi Tej Aur chalak Nikale. Unaki Aiyari ka intihan barabar liya jata tha………….

Description about eBook : When these boys were some big and able to negotiate, their writing and training were arranged and Raja Surinder Singh left these four boys in Shanti and Hijjat. Bhairosinh and Tarasingh got very fast and clever in the funeral. His preparation was taken equally…………..

“अगर आप कुछ करें, और वह अच्छा निकल आए तो आपको जा कर कुछ और अद्भुत करना चाहिए, अपनी पहली उपलब्धि पर ही देर तक ध्यान लगाते न रह जाएं। बस पता लगाएं कि आगे क्या है।” – स्टीव जॉब्स
“If you do something and it turns out pretty good then you should go do something else wonderful, not dwell on it for too long. Just figure out what’s next.” – Steve Jobs

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment