बुन्देली बसन्त 10 फरवरी 2003 : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bundeli Basant 10 February 2003 : Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Name बुन्देली बसन्त 10 फरवरी 2003 / Bundeli Basant 10 February 2003
Category, , , , , ,
Language
Pages 158
Quality Good
Size 142 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मंदिर का मुख्य शिखर वर्गाकार है जो क्रमश: ऊपर की ओर घटता चला गया है, जिस पर आमलक स्थित है। कलश नहीं है। मुख्य शिखर के आगे एक छोटा मेरु आकार का शिखर और है, जिस का अलंकरण अल्ंत भव्य है। कुछ वर्षो पूर्व इस शिखर के सबसे ऊपरी भाग में एक गज की पीठ में सिंह की मूर्ति आक्रामक मुद्रा में स्थित थी। हाथी को अंधकार…….

Pustak Ka Vivaran : Mandir ka mukhy shikhar vargakar hai jo kramash: Upar ki or ghatata chala gaya hai, Jis par Aamlak sthit hai. Kalash nahin hai. Mukhy shikhar ke aage ek chhota meru aakar ka shikhar aur hai, Jis ka alankaran atyant bhavy hai. Kuchh varsho poorv is shikhar ke sabase ooparee bhag mein ek gaj ki peeth mein sinh ki moorti aakramak mudra mein sthit thee. Hathi ko andhakar……..

Description about eBook : The main pinnacle of the temple is square, which has been gradually decreasing upwards, on which the Amalak is situated. There is no urn. Next to the main peak is a small meru-shaped peak, whose ornamentation is very grand. A few years ago, the statue of the lion was situated in an aggressive posture in the back of a yard at the top of this peak. Darkness to Elephants……..

“वह रिश्ता जो आपके परिवार को वास्तव में बांधता है, वह खून का नहीं है, बल्कि एक दूसरे के जीवन के प्रति आदर और खुशी का रिश्ता होता है।” ‐ रिचर्ड बैक
“The bond that links your true family is not one of blood, but of respect and joy in each other’s life.” ‐ Richard Bach

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment