भूल नहीं पाया हूँ : रमेशकुमार त्रिपाठी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Bhool Nahin Paya Hun : by Ramesh Kumar Tripathi Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Name भूल नहीं पाया हूँ / Bhool Nahin Paya Hun
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 112
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जब तुम रहती हो दूर तुम्हे बहुत याद करता हूँ. कभी रोकर कभी मुस्कराकर लेकिन जब तुम रहती हो साथ सह नहीं पाता तुम्हे दे नहीं पाता वह प्यार उमडता रहता है जो मेरे दिल में रहती हो जब तुम दूर क्योंकि तुम नहीं रह पाती मेरे संग उस ढंग से जैसे मैं चाहता हूँ और इससे किये रहती हो गरम तुम मेरा मन जो वास्तव में तुम्हारे लिए है. कोमल बहुत कोमल…

Pustak Ka Vivaran : Jab tum rahati ho door tumhe bahut yad karata hoon. Kabhi rokar kabhi Muskarakar lekin jab tum rahati ho sath sah nahin pata tumhe de nahin pata vah pyar umadata rahata hai jo mere dil mein rahati ho jab tum door kyonki tum nahin rah pati mere sang us dhang se jaise main chahata hoon aur isase kiye rahati ho garam tum mera man jo vastav mein tumhare liye hai. Komal bahut komal……

Description about eBook : I miss you a lot when you live far away. Sometimes crying sometimes smiling but when you live, you can’t bear to give you, you can’t give love that stays in my heart when you are away because you can’t stay with me the way I want and keep doing it. Hot you my mind which is really for you. Gentle very gentle ……

“अंधकार से अंधकार को दूर नहीं किया जा सकता है, केवल प्रकाश से ही ऐसा किया जा सकता है। नफरत से नफरत को नहीं हटाया जा सकता है, केवल प्यार से ही ऐसा किया जा सकता है।” – मार्टिन लूथर किंग, जूनियर
“Darkness cannot drive out darkness, only light can do that. Hate cannot drive out hate; only love can do that.” -Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment