भारतीय जेलों में पाँच साल : मेरी टाइलर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Bharatiya Jelon Mein Panch Sal : by Marie Tyler Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

Book Name भारतीय जेलों में पाँच साल / Bharatiya Jelon Mein Panch Sal
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 12
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जहाँ तक मेरी बात है, नक्सलवादी आंदोलन के बारे में किसी व्यापक जानकारी का दावा नही कर सकती: मै जो कुछ जान सकी हूँ, उसका एक काफी बड़ा हिस्सा मैंने जेल में रहकर जाना है। नक्सलवादियों| के संपर्क में मैं आयी उनकी निष्ठा और ईमानदारी ने, भारतीय जनता की खुशहाली के लिए उनकी सच्ची चिंता ने………..

Pustak Ka Vivaran : Jahan tak meri bat hai, Naksalavadi aandolan ke bare mein kisi vyapak jankari ka dava nahi kar Sakatei; mai jo kuchh jan saki hoon, usaka ek kaphi bada hissa mainne jel mein rahkar jana hai. Naksalavadiyon| ke sampark mein main aayee unaki Nishtha aur eemanadari ne, bharatiy janata ki khushahali ke liye unakee sachchei chinta ne…….

Description about eBook : As far as I am concerned, I cannot claim any comprehensive information about the Naxalite movement; A large part of what I have come to know, I have to live in jail. Naxalites | I came in contact with his loyalty and honesty, his genuine concern for the well being of the Indian people …….

“जीवन में दो मूलभूत विकल्प होते हैं- या तो परिस्थितियों को जैसी हैं वैसा ही स्वीकार करें, अथवा उन्हें बदलने का उत्तरदायित्व स्वीकार करें।” ‐ डा. डेविस वेटले
“There are two primary choices in life- to accept conditions as they exist, or accept the responsibility for changing them.” ‐ Dr. Denis Waitley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment