बैठक की बिल्ली : मिनाक्षी पुरी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Baithak Ki Billi : by Minakshi Puri Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Name बैठक की बिल्ली / Baithak Ki Billi
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 176
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सबसे भिन्‍न लीला ओस है। चंचल, सजीव । आँखें आकर्षक हे । लम्बे बाल इस समय गुलाबी और गहरी धारियों वाली बुश्शर्ट बाहर झूल रहे हैं। ब्लू जीन्स की जेब से रूमाल झाँक रहा है। झोला कंधे पर लटक रहा है ! चप्पल उसी मे ठूस दिये हे शायद । पांव न॑गे हैं । “मुझको नंगे पाँव देख आप खीझ तो नहीं रही हैं। लीला…….

Pustak Ka Vivaran : Sabase Bhin‍na leela os hai. Chanchal, sajeev . Aankhen Aakarshak hai . lambe bal is samay Gulabi aur gahari Dhariyon Vali bushshart bahar jhool rahe hain. Blue Jeans kee jeb se Roomal jhank raha hai. Jhola Kandhe par latak raha hai ! Chappal usee me thoos diye hai shayad . Panv Nange hain . “Mujhako Nange Panv dekh Aap kheejh to nahin rahi hain. Lela…….

Description about eBook : The most different is leela dew. Playful, lively. Eyes are attractive. Long hair, pink and deep striped bushes are swinging out at the moment. A handkerchief peeping through a pocket of blue jeans. The bag is hanging on the shoulder! The sandal is probably buried in it. The feet are bare. “Seeing me barefoot, you are not hesitating. Leela……..

“सफलता की गिनती यह नहीं कि आप खुद कितने ऊंचे तक उठे हैं बल्कि इसमें कि आप अपने साथ कितने लोगों को लाएं हैं।” ‐ विल रॉस
“Success is not counted by how high you have climbed but by how many people you have brought with you.” ‐ Wil Rose

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment