बहुत सारे बावर्ची : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Bahut Sare Bavarchi : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Name बहुत सारे बावर्ची / Bahut Sare Bavarchi
Author
Category, , ,
Language
Pages 32
Quality Good
Size 1578 KB
Download Status Available

बहुत सारे बावर्ची का संछिप्त विवरण : “मुझे लगता है कि सूप तैयार है, बाबा एडिस ने कहा. “मुझे लगता है कि अब आप सभी लोगों को काफी भूख लग रही होगी.” उन्होंने सूप को कटोरों में डाला और उसे अपने मेहमानों को दिया. “सूप देखने में काफी स्वादिष्ट लग रहा है,” बाबा बाशा ने कहा. “सूप में से अच्छी खुशबू आ रही है, बाबा येट्‌टा और बाबा मोल्का ने कहा. फिर सब लोग टेबल पर बैठ गए……..

Bahut Sare Bavarchi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : “Mujhe lagata hai ki soop taiyar hai, baba edis ne kaha. “Mujhe lagta hai ki ab aap sabhi logon ko kaphi bhookh lag rahi hogi.” Unhonne soop ko katoron mein dala aur use apne Mehamanon ko diya. “Soop dekhane mein kaphi svadisht lag raha hai,” Baba basha ne kaha. “Soop mein se achchhi khushaboo aa rahi hai, baba yet‌ta aur baba molka ne kaha. Phir sab log tebal par baith gaye……..
Short Description of Bahut Sare Bavarchi PDF Book : “I think the soup is ready,” said Baba Addis. Looks like it,” said Baba Basha. “The soup smells good, said Baba Yetta and Baba Molka. Then everyone sat down at the table………
“वह व्यक्ति बुद्धिमान है जो उन वस्तुओं के लिए दुःख नहीं मनाता जो उसके पास नहीं हैं, लेकिन उनके लिए आनन्द मनाता है जो उसके पास हैं।” ‐ एपिक्टेट्स
“He is a wise man who does not grieve for the things which he has not, but rejoices for those which he has.” ‐ Epictetus

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment