बच्चे बढाकर अपने पैरों में कुल्हाड़ी न मारे : श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Bachche Badhakar Apne Pairon Mein Kulhadi Na Maren : by Shri Ram Sharma Acharya Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Name बच्चे बढाकर अपने पैरों में कुल्हाड़ी न मारे / Bachche Badhakar Apne Pairon Mein Kulhadi Na Maren
Author
Category, , ,
Language
Pages 97
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

बच्चे बढाकर अपने पैरों में कुल्हाड़ी न मारे का संछिप्त विवरण : यह तरक्की का एक पहलू है, जो आँखों से दिखाई पड़ती है और मोटी बुद्धि भी प्रत्यक्ष परिणामों के आधार पर जिसकी विभीषिका को समझ लेती है, किंतु अन्य असंख्य तस्वीरें ऐसी हैं, जो पर्दे की ओट में खडी रहने के कारण अपने संहारी प्रभाव से जन-साधारण को अपरिचित जैसी स्थिति में डाले-भुलाये रहती हैं………………

Bachche Badhakar Apne Pairon Mein Kulhadi Na Maren PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Yah Tarakki ka ek pahaloo hai, jo aankhon se dikhayi padati hai aur moti buddhi bhi pratyaksh parinamon ke aadhar par jisaki vibheeshika ko samajh letee hai, kintu any asankhy tasveeren aisee hain, jo parde ki ot mein khadi rahane ke karan apane sanhari prabhaav se jan-sadharan ko aparichit jaisi sthiti mein dale-bhulaye rahati hain………………
Short Description of Bachche Badhakar Apne Pairon Mein Kulhadi Na Maren PDF Book : This is one aspect of progress, which is visible to the eyes, and the thick intellect also understands the horrors on the basis of its direct results, but there are innumerable other pictures, which stand under the cover of the curtain, due to their destructive effect. -Keeps forgetting the ordinary in unfamiliar situations………
“मैं जीवन से प्यार करता हूं क्योंकि इसके अलावा और है ही क्या।” ‐ एंथनी हाप्किन्स
“I love life because what more is there.” ‐ Anthony Hopkins

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment