और सांप निकल के भागा : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Aur Sanp Nikal Ke Bhaga : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

Book Name और सांप निकल के भागा / Aur Sanp Nikal Ke Bhaga
Author
Category, , , ,
Language
Pages 25
Quality Good
Size 1709 KB
Download Status Available

और सांप निकल के भागा का संछिप्त विवरण : “वो किसने कहा?” मिराबेल ने पूछा. उस सांप के शरीर पर हरी और काली धारियाँ थीं. “डरो मत,” सॉप ने कहा, “मैं तुम्हें चोट नहीं पहुँचाऊँगा.” “मुझे पता है कि तुम वैसा नहीं करोगे,” मिराबेल ने कहा. “तुम किंग कोबरा हो. मेरी दोस्त मैक्सी ने तुम्हारे बारे में अखबार में पढ़ा है. लेकिन अब मैक्सी पहाड़ी पर कूड़ेदान में फंस गई है, और कचरा ट्रक आ रहा है………

Aur Sanp Nikal Ke Bhaga Hun PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : “Vo Kisne kaha?” Mirabel ne poochha. Us Samp ke Shareer par hari aur kali dhariyan theen. “Daro mat,” Sop ne kaha, “Main tumhen chot nahin pahunchaunga.” Mujhe pata hai ki tum vaisa nahin karoge,” Mirabel ne kaha. “Tum king kobara ho. Meri dost maiksee ne tumhare bare mein akhbar mein padha hai. Lekin ab maiksi pahadi par koodedan mein phans gayi hai, aur kachara truck aa raha hai………
Short Description of Aur Sanp Nikal Ke Bhaga PDF Book : “Who said that?” Mirabel asked. The snake had green and black stripes on its body. “Don’t be afraid,” said the soap, “I won’t hurt you.” “I know you won’t do that,” said Mirabel. “You are the king cobra. My friend Maxi read about you in the newspaper. But now Maxi is stuck in the dustbin on the hill, and the garbage truck is coming………
“दूसरे क्या कर रहे हैं उसकी परवाह न करें; अपने आप से बेहतर करें, दिनोंदिन अपने ही रेकॉर्ड को तोड़े, और आप कामयाबी हासिल कर लेंगे।” ‐ विलियम बॉट्कर
“Never mind what others do; do better than yourself, beat your own record from day to day, and you are a success.” ‐ William Boetcker

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment