और बाबासाहेब अम्बेडकर ने कहा : डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – इतिहास | Aur Babasaheb Ambedkar Ne Kaha : by Dr. Bheemrav Ramji Ambedkar Hindi PDF Book – History (Itihas)

Book Name और बाबासाहेब अम्बेडकर ने कहा / Aur Babasaheb Ambedkar Ne Kaha
Author
Category, , , ,
Pages 263
Quality Good
Size 19.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : दलित चेतना के अग्रदृत बाबासाहेब अम्बेडकर की क्रान्तिमूलक प्रेरणाओं से सारा विश्व परिचित है। आधुनिक भारत के इतिहास में जिन महापुरुषों हमारी अमूल्य थाती है, उनमे डॉ. अम्बेडकर पहली पंक्ति में आते है। वर्ण-व्यवस्था के दुष्चक्र फसें भारतीय समाज के एक बड़े हिस्से को बाबासाहेब ने जिस तरह आत्मसम्मान की राह दिखाई, उससे साबित होता है……..

Pustak Ka Vivaran : Dalit chetana ke agradoot babasaheb ambedakar ki krantimoolak preranaon se sara vishv parichit hai. Aadhunik bharat ke itihas mein jin mahapurushon hamari amooly thati hai, uname do. Ambedakar pahali pankti mein aate hai. Varn-vyavastha ke dushchakr phasen bharatiya samaj ke ek bade hisse ko babasaheb ne jis tarah aatmasamman kee rah dikhai, usase sabit hota hai…………..

Description about eBook : The whole world is familiar with the revolutionary inspirations of Babasaheb Ambedkar, the pioneer of Dalit consciousness. In the history of modern India, Dr. Ambedkar comes first in the list of great men who hold our price. The vicious cycle of varna-system proves to a large section of Indian society the way Babasaheb showed the path of self-respect………….

“जिन्दगी वैसी नहीं है जैसी आप इसके लिए कामना करते हैं, यह तो वैसी बन जाती है जैसा आप इसे बनाते हैं।” एंथनी रयान
“Life isn’t what you want it to be, it’s what you make it become.” Anthony Ryan

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment