प्लेइंग इट माय वे – मेरी आत्मकथा : सचिन तेंदुलकर द्वारा हिंदी ऑडियो बुक | Playing It My Way – My Autobiography : by Sachin Tendulkar Hindi Audiobook

AudioBook Name प्लेइंग इट माय वे - मेरी आत्मकथा / Playing It My Way - My Autobiography
Author,
Category, ,
Language
Duration 23:42 Mins
Source Youtube

Playing It My Way – My Autobiography Hindi Audiobook का संक्षिप्त विवरण : मुझे लगता है कि कोई भी आत्मकथा लेखक की ज़िंदगी की हर बात बताने का दावा नहींः कर सकती। यह असंभव है। कई पहलू ऐसे होते हैं, जिनके बारे में किसी कारण नहीं लिखा जा सकता। कई घटनाएँ ऐसी होती हैं, जो निहायत निजी या शायद बहुत ज़्यादा संवेदनशील होती हैं। लेकिन मैं अपने करियर के इस वर्णन को यथासंभव पूरी कहानी बताने के इरादे से लिख रहा हूँ। ज़ाहिर है, मैंने जिन घटनाओं का वर्णन किया है, उनमें से कई क्रिकेट प्रेमियों को पहले से पता हैं, लेकिन मैंने कई ऐसी बातें भी बताई हैं, जो मैंने पहले कभी नहीं बताईं और इनमें से कुछ बातों से मुझे संकोच होता है। मुझे उम्मीद है कि पाठकों को यहाँ बहुत सी रोचक सामग्री मिलेगी। यह पुस्तक शुरू करने से पहले मुझे इस बारे में काफ़ी सोचना पड़ा कि क्या इसे लिखना सही रहेगा। यह कोई आसान निर्णय नहीं था। मैं सनसनीख़ेज़ बनने की ख़ातिर सनसनी फैलाने का आदी नहीं हूँ। मैं किसी को चिढ़ाने के लिए कुछ कहने का आदी भी नहीं हूँ। यह मेरे स्वभाव में ही नहीं है। लेकिन मैं जानता था कि अगर मैं अपनी कहानी लिखने के लिए तैयार हो जाता हूँ, तो मुझे पूरी तरह से ईमानदार होना होगा, क्योंकि मैंने खेल को हमेशा इसी तरह खेला है। तो यह लीजिए, मैं अपनी आख़िरी पारी के अंत में खड़ा हूँ, पवेलियन तक जाने वाली अंतिम यात्रा पूरी कर चुका हूँ और अपने करियर की कई घटनाएँ बताने के लिए तैयार हूँ, जिनमें समय गुज़ारना मेरी खुशक़िस्मती थी |

“जो तुच्छ मामलों में सत्य के साथ लापरवाह हो उस पर महत्त्वपूर्ण मामलों में ऐसा नहीं करने का भरोसा नहीं किया जा सकता है।” ‐ अल्बर्ट आइंसटीन
“Whoever is careless with the truth in small matters cannot be trusted with important matters.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment