अस्पृश्य का विद्रोह, गाँधी और उनका अनशन, पूना पैक्ट : डॉ. बी.आर.अम्बेडकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Ashprishya Ka Vidroh, Gandhi or Unka Anshan, Puna Pact : by. Dr. B. R. Ambedkar Hindi PDF Book

Book Name अस्पृश्य का विद्रोह, गाँधी और उनका अनशन, पूना पैक्ट / Ashprishya Ka Vidroh, Gandhi or Unka Anshan, Puna Pact
Author
Category
Pages 433
Quality Good
Size 62.2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जो कुछ भी मैं करने में सक्षम हूं, में जीवनभर की परेशानियों को सहन करने में सक्षम हूं और वृद्धावादियों के साथ लड़े जाने के बाद, मैं इसे करने में सक्षम हूं। जिस कारवां को आप यहां देख रहे हैं, उसे यहां कई कठिनाइयों के साथ लाया गया है, इसके बावजूद कई बाधाएं आ सकती हैं, यह कारवां बढ़ने जा रहा है। अगर मेरे अनुयायी इसे आगे ले जाने में असमर्थ थे, तो उन्हें इसे छोड़ देना चाहिए, जहां यह अभी है। लेकिन किसी भी परिस्थिति में, इसे छोड़ना नहीं है। यह मेंरे जनता के लिए मेरा संदेश………

PustakKaVivaran : Jo kuch main kar paya hoon, vah jeevan -bhar museebaton sahan karake vorodhiyon se takkar lene ke baad he kar paaya hoon. Jis karavaan ko aap yahan dekh rahe hain, use mein anek kathinaiyon se yahaan le aa paaya hoon anek avarodh, jo isake maarg mein aa sakate hain ke baavajood is kaaravaan ko badate rahana hai. Agar mere anuyaayee ise aage le jaane mein asamarth rahe to unhen ise yahee par chhod dena chahie, jahan par yah ab hai. Par kinhe bhi paristhitiyon mein ise peechhe nahin hatane dena hai. Meri janata ka liye mera yahi sandesh hai…………..

Description about eBook : Whatever I have been able to do, I have been able to endure life-long troubles and after having fought with the Vriddhists, I have been able to do it. The caravan you are seeing here has brought it here with many difficulties, despite the many obstacles that can come in its way, this caravan is going to grow. If my followers were unable to take it forward, then they should leave it on this, where it is now. But in any of the circumstances, it is not to give up. This is my message for my public…………..

“जब आप शहद की खोज में जाते हैं, तो आपको मधुमक्खियों द्वारा काटे जाने की संभावना को स्वीकर कर लेना चाहिए। (सफलता के मार्ग में कठिनाईयों का आना स्वभाविक ही है)” ‐ जोसेफ जोबर्ट
“When you go in search of honey you must expect to be stung by bees.” ‐ Joseph Joubert

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment