अन्तरिक्ष एवं नक्षत्र विज्ञान : डॉ जसबीर सिंह द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Antriksh Evam Nakshtra Vigyaan : by Dr. Jasbeer Singh Hindi PDF Book

Author
Category,
Language
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|
“देरी से प्राप्त की गई सम्पूर्णता की तुलना में निरन्तर सुधार बेहतर होता है।” ‐ मार्क टवैन
“Continuous improvement is better than delayed perfection.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

अन्तरिक्ष एवं नक्षत्र विज्ञान : डॉ जसबीर सिंह द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Antriksh Evam Nakshtra Vigyaan : by Dr. Jasbeer Singh Hindi PDF Book

अन्तरिक्ष एवं नक्षत्र विज्ञान : डॉ जसबीर सिंह द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Antriksh Evam Nakshtra Vigyaan : by Dr. Jasbeer Singh Hindi PDF Book

  • Pustak Ka Naam / Name of Book : अन्तरिक्ष एवं नक्षत्र विज्ञान / Antriksh Evam Nakshtra Vigyaan Hindi Book in PDF
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book : डॉ जसबीर सिंह / Dr. Jasbeer Singh
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book : हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 10.6 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook : 216
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status : Best

(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )

अन्तरिक्ष एवं नक्षत्र विज्ञान : डॉ जसबीर सिंह द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Antriksh Evam Nakshtra Vigyaan : by Dr. Jasbeer Singh Hindi PDF Book

Pustak Ka Vivaran : kaha jaata hai ki bebeelan ke ye purohit mandiron ki chhaton par chadhakar na keval devataon ki stuti kiya karate the, balki in saaton grahon keb gaane ka adhyan karate taaki yadi unakee samajh se in devataon me se koee daivik karane ka vichaar kar raha ho to ve log tatkaaleen raaja ko us aapatti ke viruddh khabaradaar kar sake………….

अन्य विज्ञान पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए- “विज्ञान हिंदी पुस्तक

Description about eBook : It is said that these priests of Babylonian climbers did not only praise the gods, but they also used to study the songs of these seven planets so that if they were thinking of doing any of these deities in their understanding, then they People could warn the then king against that objection…………….

To read other Science books click here- “Hindi Science Books

 

सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें

 

श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें

 

“मनुष्य के सद् विवेक की अंतिम कसौटी शायद उन भावी पीढ़ियों के लिए आज कुछ त्याग करने की उसकी इच्छा ही है जिन के धन्यवाद के शब्द उसे कभी सुनाई नहीं देंगे।”
– गेलॉर्ड नेलसन, अमरीकी राजनीतिज्ञ
——————————–
“The ultimate test of man’s conscience may be his willingness to sacrifice something today for future generations whose words of thanks will not be heard.
– Gaylord Nelson, US Senator
Connect with us on Facebook and Instagram – सोशल मीडिया पर हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज लाइक करें. लिंक नीचे दिए है

Leave a Comment