अखण्ड ज्योति अगस्त १९९७ : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Akhad Jyoti Agust 1997 : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

Book Name अखण्ड ज्योति अगस्त १९९७ / Akhad Jyoti Agust 1997
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 60
Quality Good
Size 63 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : प्रतिमाओं के रूप में जो दिखाई देते हैं, वे भगवान बोलते नहीं | परन्तु अंतःकरण ‘दाले भगवान जब दर्शन दूत हं तो बात करने के लिए भी व्याकूल दिखाई देते हैं । हमारे पास कान हैं | वे यदि सुनने का प्रयास करें तो सुनाई पड़ेगा “मेरे इस अनुपम उपहार-मनष्य जीवन को इस तरह न बिताया जाना चाहिए जैसे कि बिताया जा रहा….

Pustak Ka Vivaran : Pratimaon ke roop mein jo dikhayi dete hain, ve Bhagwan bolate nahin. Parantu antahkaran dale bhagvan jab darshan doot han to bat karne ke liye bhi vyakool dikhayi dete hain. Hamare pas kan hain. Ve Yadi Sunane ka prayas karen to sunayi padega “Mere is anupam uphar-manashy jeevan ko is tarah na bitaya jana chahiye jaise ki bitaya ja raha….

Description about eBook : Those who are seen in the form of idols, God does not speak. But when the conscience’ Dale God is the messenger of vision, then he appears too busy to talk. We have ears If they try to listen, they will hear, “This unique gift of mine – human life should not be spent as if it is being spent…….

“ऐसा व्यक्ति जो अनुशासन के बिना जीवन जीता है वह सम्मान रहित मृत्यु मरता है।” ‐ आईसलैण्ड की कहावत
“He who lives without discipline dies without honor.” ‐ Icelandic Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment