अछूत कौन थे और वे अछूत केसे बने : डॉ. बी. आर अम्बेडकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Achhut Kaun The Aur Ve Achhut Kese Bane : by Dr. B. R. Ambedkar Hindi PDF Book

Book Name अछूत कौन थे और वे अछूत केसे बने / Achhut Kaun The Aur Ve Achhut Kese Bane
Author
Category, ,
Language
Pages 179
Quality Good
Size 21.4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : इन वर्गों के अतिरिक्त एक कल॑क है | इन सामाजिक के सन्दर्भ में यदि हिन्भ समाज को मापा जाये तो इसे कोई सभ्य समाज नहीं कह सकता | मानवता का उत्पीडन और दमन करने के लिए इसका यह एक पैशाचिक धूर्तता है नाम उसका तो कलंक होना चाहिए | उस सभ्यता को और क्या नाम दिया जाए जिसने ऐसे समाज को जनम दिया हो…….

PustakKaVivaran : In vargon ke atirikt ek kalank hai. In saamaajik ke sandarbh mein yadi hindoo samaaj ko maapa jaaye to ise koee sabhy samaaj nahin kah sakata. Maanavata ka utpeedan aur daman karane ke lie isaka yah ek paishaachik dhoortata hai naam usaka to kalank hona chaahiye. Us sabhyata ko aur kya naam diya jae jisane aise samaaj ko janam diya ho…………

Description about eBook : There is a stigma in addition to these sections. If Hindu society is measured in terms of these societies, then it can not be called a civilized society. To harass and suppress humanity, it is a vicious scandal, it should be a blur. What other name should be given to the civilization which has given birth to such a society…………..

“जीवन की आधी असफलताओं का कारण व्यक्ति का अपने घोड़े के छलांग लगाते समय उसकी लगाम खींच लेना होता है।” ‐ चार्ल्स हेयर
“Half the failures of this world arise from pulling in one’s horse as he is leaping.” ‐ Augustus Hare

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment