आधे रास्ते : कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Aadhe Raste : by Kanhaiya Lal Maniklal Munshi Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

Book Name आधे रास्ते / Aadhe Raste
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 228
Quality Good
Size 18.5 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : वास्तव में देखा जाय तो टीला एक छोटा-सा मुहल्ला दे। इसमें एक ओर चार मकान हैं, दूसरी ओर तीन, और बीच में एक कुँआ है । यह बात भी एकदम समझ में नहीं आ सकती कि यह टीला है। कारण, आगे के रास्ते से यह बहुत ऊँचा नहीं है । पिछले डेढ़ सौ वर्षो में मुनशी इस स्थान से किसी टीले पर रहने वाले बनचरों की भाँति कमाने……….

Pustak Ka Vivaran : Vastav mein dekha jay to Teela ek chhota-sa Muhalla dai. Isamen ek or char makan hain, doosari or teen, aur beech mein ek kuna hai . Yah bat bhi Ekdam samajh mein nahin aa sakti ki yah Teela hai. Karan, aage ke Raste se yah bahut Uncha nahin hai . Pichhale dedh sau varsho mein Munshi is sthan se kisi teele par rahane vale banacharon ki bhanti kamane…….

Description about eBook : In fact, the mound is a small mohalla. It has four houses on one side, three on the other, and a well in the middle. It cannot even be understood at all that this is a mound. Because it is not very high from the road ahead. In the last one and a half hundred years, the Munshi has earned from this place like the Banchars living on a mound……..

“मित्र उन मल्लाहों की तरह होते हैं जो आपके जीवन की नाव को टेढ़े-मेढ़े रास्तों से निकाल कर सुरक्षित मंजिल तक पहुंचाने में मार्गदर्शन करते हैं।” सेयर तथा केट
“Friends are the sailors who guide your rickety boat safely across the dangerous waters of life.” Sare and Cate

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment