भारतीय वास्तु शास्त्र (प्रतिमा विज्ञान) : द्विजेन्द्रनाथ शुक्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Bharatiya Vastu Shastra (Pratima Vigyan) : by Dvijendranath Shukla Hindi PDF Book


bharatiya-vastu-shastra-pratima-vigyan-dvijendranath-shukla-भारतीय-वास्तु-शास्त्र-(प्रतिमा-विज्ञान)-द्विजेन्द्रनाथ-शुक्ल



पुस्तक का नाम / Name of Book : भारतीय वास्तु शास्त्र (प्रतिमा विज्ञान) / Bharatiya Vastu Shastra (Pratima Vigyan)

पुस्तक के लेखक / Author of Book : द्विजेन्द्रनाथ शुक्ल / Dvijendranath Shukla

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 47.0 MB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 344

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 
(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )


पुस्तक का विवरण : प्रतिमा-शास्त्र की समीक्षात्मक व्याख्या का हिंदी में यह प्रथम प्रयत्न है| अंग्रेजी में इस विषय के कतिपय प्रसिद्ध एवं प्रमाणिक ग्रन्थ हैं जिनमें गोपीनाथ राव के चार ब्रहदाकर ग्रन्थ (Elements of Hindu Iconography), श्री ब्रन्दावन भट्टाचार्य का Indian Images, डॉ जितेन्द्रनाथ वैनर्जी का  Development of Hindu Iconography विशेष उल्लेख्य हैं..............

अन्य योग पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  "हिंदी योग पुस्तक"

Description about eBook : It is the first attempt in Hindi to critique the statistical interpretation. There are some famous and authentic texts in this subject in English, including Gopinath Rao's Four Elements of Hindu Iconography, Indian Images of Mr Brndavan Bhattacharya, Dr. Jitendra Nath Vannarji's Development of Hindu Iconography.................

To read other Yoga books click here"Hindi Yoga Books"


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें





इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 







श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 


One Quotation / एक उद्धरण

“हमें भूत के बारे में पछतावा नहीं करना चाहिए, न ही भविष्य के बारे में चिंतित होना चाहिए; विवेकी व्यक्ति हमेशा वर्तमान में जीते हैं।”
चाणक्य

--------------------------------

“We should not fret for what is past, nor should we be anxious about the future; men of discernment deal only with the present moment.”

Chanakya






जो करते हैं हिंदी कहानियों से प्यार ! उनका यहाँ स्वागत है

Your Hindi Blog .com

कमेंट करके हमें उन पुस्तकों के बारे में जरुर बताये , जिन्हें आप डाउनलोड नही कर पा रहें

Post a Comment

 
Top