विज्ञान परिषद अनुसन्धान पत्रिका : डॉ सत्यप्रकाश द्वारा | Vigyan Parishad Anusandhan Patrika : by Dr Satyaprakash


vigyan-parishad-anusandhan-patrika-dr-satyaprakash-विज्ञान-परिषद-अनुसन्धान-पत्रिका-डॉ-सत्यप्रकाश



पुस्तक का नाम / Name of Book : विज्ञान परिषद अनुसन्धान पत्रिका / Vigyan Parishad Anusandhan Patrika

पुस्तक के लेखक / Author of Book : डॉ सत्यप्रकाश / Dr Satyaprakash

पुस्तक की भाषा / Language of Book : हिंदी / Hindi

पुस्तक का आकर / Size of Ebook : 21.8 MB

कुल पन्ने / Total pages in ebook : 212

पुस्तक डाउनलोड स्थिति / Ebook Downloading Status  : Best 
(Report this in comment if you are facing any issue in downloading / कृपया कमेंट के माध्यम से हमें पुस्तक के डाउनलोड ना होने की स्थिति से अवगत कराते रहें )


पुस्तक का विवरण : कई वर्षों से हमारे देश में पर्याप्त मात्रा में भोजन-संभरण की समस्या चिंता का विषय रही है| भूमि की उत्पादन-सामर्थ्य काफी समय से प्रायः स्थायी रही है जबकि जनसंख्या में समय के साथ-साथ वृद्धि होती रही है| द्वितीय विश्वयुद्ध काल में बर्मा तथा थाईलैंड से चावल के आयात बंद होने, संचार व्यवस्था के बंद हो जाने एवं हेलमिन्थोस्पोरियम रोग के कारण जिसने सन १६४३ में बंगाल में चावल की पूरी फसल को नष्ट करके एक भयंकर अकाल का रूप धारण किया था|..............

अन्य विज्ञान पुस्तकों के लिए यहाँ दबाइए-  "हिंदी विज्ञान पुस्तक"

Description about eBook : For many years our problem of adequate food-feeding has been a cause of concern in our country. The production capacity of the land has been sustained for quite a long time, whereas the population has been increasing with time over time. Due to the closure of import of rice from Burma and Thailand during the Second World War, due to the closure of the circulatory system and the Helmanthosporium disease which in 1643 had destroyed the entire crop of rice in Bengal as a fierce famine..................

To read other Science books click here"Hindi Science Books"


सभी हिंदी पुस्तकें ( Free Hindi Books ) यहाँ देखें





इस पुस्तक को दुसरो तक पहुचाएं 






श्रेणियो अनुसार हिंदी पुस्तके यहाँ देखें 


One Quotation / एक उद्धरण

“आप जितनी ज्यादा मेहनत करते हैं, उतने ही किस्मती बनते जाते हैं।”
गैरी प्लेयर

--------------------------------

“The harder you work, the luckier you get.” 
Gary Player






जो करते हैं हिंदी कहानियों से प्यार ! उनका यहाँ स्वागत है

Your Hindi Blog .com

कमेंट करके हमें उन पुस्तकों के बारे में जरुर बताये , जिन्हें आप डाउनलोड नही कर पा रहें

Post a Comment

 
Top